Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2022 · 1 min read

हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)

बड़े कष्ट से पहले जन्म दिया,
और फिर किया लालन पालन ।
शिक्षा दीक्षा देकर योग्य बनाया,
सिखाया संस्कार और अनुशासन ।

हर हालात से लड़ना सिखाया,
सत्य और विश्वास का दामन थाम ।
इंसानियत ,दया धर्म और करुणा,
रूपी दौलत दी जिसका नही कोई दाम ।

कभी कोई संकट आया तो ,
साथ मिलकर बनी हमकदम ।
हमारे हर नेक कदम पर,निर्णयों पर,
हौंसला दिया उन्होंने हरदम ।

हमारे लिया माता भी और पिता भी ,
वोह एक मित्र भी और हमराज भी ।
सही / गलत राह बताने वाली गुरु भी ,
हमारी मां है हमारे किए प्रेरणा भी ।

दुआ है यही ईश्वर से उनका साथ बना रहे,
हर पल हर घड़ी उनका आशीष मिलता रहे।
हम पर ममता और स्नेह लुटाने वाली देवी जैसी ,
हमारी मां ता कयामत तक सलामत रहे।

Language: Hindi
465 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
नाम हमने लिखा था आंखों में
नाम हमने लिखा था आंखों में
Surinder blackpen
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
नेताम आर सी
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
जिंदगी माना कि तू बड़ी खूबसूरत है ,
जिंदगी माना कि तू बड़ी खूबसूरत है ,
Manju sagar
तू ज़रा धीरे आना
तू ज़रा धीरे आना
मनोज कुमार
कितनी प्यारी प्रकृति
कितनी प्यारी प्रकृति
जगदीश लववंशी
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
निशांत 'शीलराज'
विरह
विरह
Neelam Sharma
दोहा मुक्तक -*
दोहा मुक्तक -*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हम ख़फ़ा हो
हम ख़फ़ा हो
Dr fauzia Naseem shad
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
चौराहे पर....!
चौराहे पर....!
VEDANTA PATEL
मैं लिखता हूं..✍️
मैं लिखता हूं..✍️
Shubham Pandey (S P)
कल को छोड़कर
कल को छोड़कर
Meera Thakur
"प्रेम कर तू"
Dr. Kishan tandon kranti
दहेज ना लेंगे
दहेज ना लेंगे
भरत कुमार सोलंकी
*कुछ तो बात है* ( 23 of 25 )
*कुछ तो बात है* ( 23 of 25 )
Kshma Urmila
*रहते परहित जो सदा, सौ-सौ उन्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
*रहते परहित जो सदा, सौ-सौ उन्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
World Blood Donar's Day
World Blood Donar's Day
Tushar Jagawat
सृजन
सृजन
Prakash Chandra
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
Basant Bhagawan Roy
9. *रोज कुछ सीख रही हूँ*
9. *रोज कुछ सीख रही हूँ*
Dr Shweta sood
फिर आई स्कूल की यादें
फिर आई स्कूल की यादें
Arjun Bhaskar
इतनी के बस !
इतनी के बस !
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
शिव सबके आराध्य हैं, रावण हो या राम।
शिव सबके आराध्य हैं, रावण हो या राम।
Sanjay ' शून्य'
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
पूर्वार्थ
......मंजिल का रास्ता....
......मंजिल का रास्ता....
Naushaba Suriya
सुप्त तरुण निज मातृभूमि को हीन बनाकर के विभेद दें।
सुप्त तरुण निज मातृभूमि को हीन बनाकर के विभेद दें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
2434.पूर्णिका
2434.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के अन्तर्विरोध
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के अन्तर्विरोध
कवि रमेशराज
Loading...