Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2016 · 1 min read

हमारी तिश्नगी ने ग़म पिया है

हमारी तिश्नगी ने ग़म पिया है
तभी मर मरके दिल अपना जिया है

तिरी यादों को हम कितना भुलाए
भुलाके ख़ुदको ग़म इतना लिया है

रफ़ू कर कर के कपड़े तन छुपाया
किसी ने कब यूँ ज़ख्मों को सिया है

उदासी देख चेहरे पर सभी ने
ये पुछा ग़म तुझे किसने दिया है

नज़ारे और ही थे उन दिनों के
अभी तन्हाई है और बस दिया है

मिला जब साथ ये जज़्बाती मुझको
धड़कने फिर लगा अपना जिया है
जज़्बाती

2 Comments · 336 Views
You may also like:
शायरी हिंदी
श्याम सिंह बिष्ट
बदलती परम्परा
Anamika Singh
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
तोड़ देना चाहे ,पर कोई वादा तो कर
Ram Krishan Rastogi
कोरोना माई के प्रताप पर 3 कुण्डलिया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*वंदनीय सेना (घनाक्षरी : सिंह विलोकित छंद*
Ravi Prakash
वो बचपन की बातें
Shyam Singh Lodhi Rajput (LR)
नवगीत---- जीवन का आर्तनाद
Sushila Joshi
कब आओगे ,श्याम !( श्री कृष्ण जन्माष्टमी विशेष )
ओनिका सेतिया 'अनु '
योग छंद विधान और विधाएँ
Subhash Singhai
तेरे बिन
Harshvardhan "आवारा"
मांगू तुमसे पूजा में, यही छठ मैया
gurudeenverma198
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम है गरीब घर के बेटे
Swami Ganganiya
बेचने वाले
shabina. Naaz
दर्द ना मिटा दिल से तेरी चाहतों का।
Taj Mohammad
गज़ल
Saraswati Bajpai
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
आकर्षण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वो तुम्हीं तो हो
Dr fauzia Naseem shad
हल्लाबोल
Shekhar Chandra Mitra
✍️उत्सव और मातम…
'अशांत' शेखर
तन्हाँ-तन्हाँ सफ़र
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरे आँगन में इक लड़की
rkchaudhary2012
मुलाकात
Buddha Prakash
कृपा करो मां दुर्गा
Deepak Kumar Tyagi
सुंदर बाग़
DESH RAJ
सूरत -ए -शिवाला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
विचारधारा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मिलना , क्यों जरूरी है ?
Rakesh Bahanwal
Loading...