Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2016 · 1 min read

हमारी तिश्नगी ने ग़म पिया है

हमारी तिश्नगी ने ग़म पिया है
तभी मर मरके दिल अपना जिया है

तिरी यादों को हम कितना भुलाए
भुलाके ख़ुदको ग़म इतना लिया है

रफ़ू कर कर के कपड़े तन छुपाया
किसी ने कब यूँ ज़ख्मों को सिया है

उदासी देख चेहरे पर सभी ने
ये पुछा ग़म तुझे किसने दिया है

नज़ारे और ही थे उन दिनों के
अभी तन्हाई है और बस दिया है

मिला जब साथ ये जज़्बाती मुझको
धड़कने फिर लगा अपना जिया है
जज़्बाती

2 Comments · 437 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरा सोमवार
मेरा सोमवार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
शाकाहारी
शाकाहारी
डिजेन्द्र कुर्रे
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दिल का सौदा
दिल का सौदा
सरिता सिंह
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
बारिश की बूंदें
बारिश की बूंदें
Surinder blackpen
स्वर्ग से सुंदर समाज की कल्पना
स्वर्ग से सुंदर समाज की कल्पना
Ritu Asooja
कविता
कविता
Shiva Awasthi
कसम है तुम्हें भगतसिंह की
कसम है तुम्हें भगतसिंह की
Shekhar Chandra Mitra
अपने मन के भाव में।
अपने मन के भाव में।
Vedha Singh
मिमियाने की आवाज
मिमियाने की आवाज
Dr Nisha nandini Bhartiya
गुमूस्सेर्वी
गुमूस्सेर्वी "Gümüşservi "- One of the most beautiful words of the world.
कुमार
यह आत्मा ही है जो अस्तित्व और ज्ञान का अनुभव करती है ना कि श
यह आत्मा ही है जो अस्तित्व और ज्ञान का अनुभव करती है ना कि श
Ms.Ankit Halke jha
भ्रष्टाचार और सरकार
भ्रष्टाचार और सरकार
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
Dr. Man Mohan Krishna
*फागुन महीने का मधुर, उपहार है होली (मुक्तक)*
*फागुन महीने का मधुर, उपहार है होली (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जाने किस कातिल की नज़र में हूँ
जाने किस कातिल की नज़र में हूँ
Ravi Ghayal
मेहनत
मेहनत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते है, पर उनकी बातों में विश्
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते है, पर उनकी बातों में विश्
जय लगन कुमार हैप्पी
■ किसी की चाल या ख़ुद की चालबाज़ी...?
■ किसी की चाल या ख़ुद की चालबाज़ी...?
*Author प्रणय प्रभात*
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कल आज कल
कल आज कल
Satish Srijan
माँ...की यादें...।
माँ...की यादें...।
Awadhesh Kumar Singh
कोई मौसम सा जब बदलता है
कोई मौसम सा जब बदलता है
Dr fauzia Naseem shad
💐अज्ञात के प्रति-7💐
💐अज्ञात के प्रति-7💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Sometimes
Sometimes
Vandana maurya
एक हरे भरे गुलशन का सपना
एक हरे भरे गुलशन का सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
वन  मोर  नचे  घन  शोर  करे, जब  चातक दादुर  गीत सुनावत।
वन मोर नचे घन शोर करे, जब चातक दादुर गीत सुनावत।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रेम की राह।
प्रेम की राह।
लक्ष्मी सिंह
Loading...