Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Dec 2022 · 1 min read

हमारा संविधान

नियम और कानूनों का वह किताब
जिसमें जिंदगी जीने का लिखा खिताब
न ही लिंग,जात-पात का इनमें भेदभाव
न किसी प्रकार छुआ-छुट का भेदभाव
वही हमारा उल्लेखनीय है संविधान…

जिनमें जिंदगी जीने से लेकर के
न ही स्वयं प्राण त्यागने तक के
सभी अधिकार दिए गए है हमको
अन्नाय के उपरांत देते न्याय हमको
वही हमारा उल्लेखनीय है संविधान…

जिंदगी को जीने हेतु मिला है हमको
छ: तरह के मौलिक प्रभुत्व है सबको
कसूर हो तो कुछ प्रभुत्व लेती सरकार
वरना न छीन सकता गैर कोई अधिकार
वही हमारा उल्लेखनीय है संविधान…

नेता लीडर घोटाला तो सतत ही करते रहता
सोचये कितने महान थे हमारे संविधान निर्माता
जिन्होंने हमारे देश को इन नेताओं को न सौंपे
वरना ! आज हमारे संपूर्ण मुल्क को बेचे बैठते
उन्हीं बाबा साहब का उल्लेखनीय है संविधान…

लेखक:- अमरेश कुमार वर्मा

Language: Hindi
3 Likes · 547 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राम नाम की जय हो
राम नाम की जय हो
Paras Nath Jha
आँखों से गिराकर नहीं आँसू तुम
आँखों से गिराकर नहीं आँसू तुम
gurudeenverma198
ये जो दुनियादारी समझाते फिरते हैं,
ये जो दुनियादारी समझाते फिरते हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
दम उलझता है
दम उलझता है
Dr fauzia Naseem shad
2970.*पूर्णिका*
2970.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" मुशाफिर हूँ "
Pushpraj Anant
झोली फैलाए शामों सहर
झोली फैलाए शामों सहर
नूरफातिमा खातून नूरी
पिता
पिता
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
.... कुछ....
.... कुछ....
Naushaba Suriya
क्यूँ ये मन फाग के राग में हो जाता है मगन
क्यूँ ये मन फाग के राग में हो जाता है मगन
Atul "Krishn"
मैं तो महज एक माँ हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
VINOD CHAUHAN
गुलाब
गुलाब
Satyaveer vaishnav
चश्मा,,,❤️❤️
चश्मा,,,❤️❤️
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पहले कविता जीती है
पहले कविता जीती है
Niki pushkar
అమ్మా దుర్గా
అమ్మా దుర్గా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
मिली जिस काल आजादी, हुआ दिल चाक भारत का।
मिली जिस काल आजादी, हुआ दिल चाक भारत का।
डॉ.सीमा अग्रवाल
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
Kishore Nigam
उर्दू
उर्दू
Surinder blackpen
आशा की किरण
आशा की किरण
Neeraj Agarwal
मां
मां
goutam shaw
"फार्मूला"
Dr. Kishan tandon kranti
*साठ बरस के हो गए, हुए सीनियर आज (हास्य कुंडलिया)*
*साठ बरस के हो गए, हुए सीनियर आज (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
झुलस
झुलस
Dr.Pratibha Prakash
22, *इन्सान बदल रहा*
22, *इन्सान बदल रहा*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Raju Gajbhiye
😊आज का दोहा😊
😊आज का दोहा😊
*प्रणय प्रभात*
सही ट्रैक क्या है ?
सही ट्रैक क्या है ?
Sunil Maheshwari
Loading...