Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2016 · 1 min read

हमारा आज ही देखो हमारा कल सजाता है

हमारा आज ही देखो हमारा कल सजाता है
न वापस लौट कर बीता हुआ यह वक़्त आता है

मिलाता छीनता हमसे हमारे वक़्त अपने हैं
कभी इसने किये पूरे कभी तोड़े भी सपने हैं
सभी गुजरे पलों को कल के सीने में छिपाता है
हमारा आज ही देखो हमारा कल सजाता है

न बीते कल की तुम सोचो न आने वाले कल की ही
ख़ुशी तो तुम मना लो बस यहाँ प्रत्येक पल की ही
जियो बस आज में ही ये बदल फिर कल में जाता है
हमारा आज ही देखो हमारा कल सजाता है

रहे कल में अगर डूबे न होगा आज हाथो में
बिताओ वक़्त को अपने नहीं बेकार बातों में
समय हमको जिताता गर यही हमको हराता है
हमारा आज ही देखो हमारा कल सजाता है

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद(उ प्र)

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 8 Comments · 318 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
साहित्य सृजन .....
साहित्य सृजन .....
Awadhesh Kumar Singh
"कहाँ छुपोगे?"
Dr. Kishan tandon kranti
*सत्य  विजय  का पर्व मनाया*
*सत्य विजय का पर्व मनाया*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मुझे आने तो दो
मुझे आने तो दो
Satish Srijan
मज़हब नहीं सिखता बैर
मज़हब नहीं सिखता बैर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2580.पूर्णिका
2580.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आनंद और इच्छा में जो उलझ जाओगे
आनंद और इच्छा में जो उलझ जाओगे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हे आशुतोष !
हे आशुतोष !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जलपरी
जलपरी
लक्ष्मी सिंह
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
*कमबख़्त इश्क़*
*कमबख़्त इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अब किसी की याद नहीं आती
अब किसी की याद नहीं आती
Harminder Kaur
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
Rashmi Ranjan
💐प्रेम कौतुक-240💐
💐प्रेम कौतुक-240💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ Rãthí
गज़ल सी रचना
गज़ल सी रचना
Kanchan Khanna
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अल्फाज़
अल्फाज़
हिमांशु Kulshrestha
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
कोशिश कर रहा हूँ मैं,
कोशिश कर रहा हूँ मैं,
Dr. Man Mohan Krishna
शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बाल विवाह
बाल विवाह
Utkarsh Dubey “Kokil”
बोलो जय जय गणतंत्र दिवस
बोलो जय जय गणतंत्र दिवस
gurudeenverma198
बाढ़ और इंसान।
बाढ़ और इंसान।
Buddha Prakash
प्रिंट मीडिया का आभार
प्रिंट मीडिया का आभार
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
'I love the town, where I grew..'
'I love the town, where I grew..'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
“मेरी कविता का सफरनामा ”
“मेरी कविता का सफरनामा ”
DrLakshman Jha Parimal
■ एक_स्तुति
■ एक_स्तुति
*Author प्रणय प्रभात*
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी पर लिखे अशआर
ज़िंदगी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...