Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2023 · 1 min read

हमसे वफ़ा तुम भी तो हो

हमसे वफ़ा तुम भी तो हो,तो हम वफ़ा तुमसे करें।
इजहार तुमसे प्यार करें, एतबार तुमपे हम भी करें।।
हमसे वफ़ा तुम भी तो हो——————।।

सच पूछो तो हमको, पसंद सिर्फ तुम हो।
लेते हैं जिसका नाम, वह चेहरा तुम हो।।
पेश करेंगे दिल भी,पेश प्यार लेकिन तुम भी करें।
हमसे वफ़ा तुम भी तो हो——————।।

मिले साथ तुम्हारा तो, साथ नहीं छोड़ेंगे।
दिल की खुशी देंगे, दिल नहीं तोड़ेंगे।।
बनायेंगे तुमको नसीब,अच्छी दुहायें तुम भी करें।
हमसे वफ़ा तुम भी तो हो——————।।

महफिलों तारीफ हम तो, करते हैं तुम्हारी।
कहते हैं हम तो तुमको, जिंदगी हमारी।।
बनायेंगे तुमको हमराह,लेकिन पसंद तुम भी करें।
हमसे वफ़ा तुम भी तो हो——————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम मेरे हो
तुम मेरे हो
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जपू नित राधा - राधा नाम
जपू नित राधा - राधा नाम
Basant Bhagawan Roy
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
Surinder blackpen
जानना उनको कहाँ है? उनके पते मिलते नहीं ,रहते  कहीं वे और है
जानना उनको कहाँ है? उनके पते मिलते नहीं ,रहते कहीं वे और है
DrLakshman Jha Parimal
If you ever need to choose between Love & Career
If you ever need to choose between Love & Career
पूर्वार्थ
"अजीज"
Dr. Kishan tandon kranti
जय जय भोलेनाथ की, जय जय शम्भूनाथ की
जय जय भोलेनाथ की, जय जय शम्भूनाथ की
gurudeenverma198
आओ एक गीत लिखते है।
आओ एक गीत लिखते है।
PRATIK JANGID
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
"" *जीवन आसान नहीं* ""
सुनीलानंद महंत
भटक रहे अज्ञान में,
भटक रहे अज्ञान में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तहरीर लिख दूँ।
तहरीर लिख दूँ।
Neelam Sharma
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
Dr Tabassum Jahan
भारी पहाड़ सा बोझ कुछ हल्का हो जाए
भारी पहाड़ सा बोझ कुछ हल्का हो जाए
शेखर सिंह
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
माता- पिता
माता- पिता
Dr Archana Gupta
"मनुष्य की प्रवृत्ति समय के साथ बदलना शुभ संकेत है कि हम इक्
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दस्तरखान बिछा दो यादों का जानां
दस्तरखान बिछा दो यादों का जानां
Shweta Soni
सोच कर हमने
सोच कर हमने
Dr fauzia Naseem shad
हमारा मन
हमारा मन
surenderpal vaidya
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
ललकार भारद्वाज
अपनी हिंदी
अपनी हिंदी
Dr.Priya Soni Khare
गुरु तेगबहादुर की शहादत का साक्षी है शीशगंज गुरुद्वारा
गुरु तेगबहादुर की शहादत का साक्षी है शीशगंज गुरुद्वारा
कवि रमेशराज
तस्वीर
तस्वीर
Dr. Mahesh Kumawat
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
Mahender Singh
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सच तो आज न हम न तुम हो
सच तो आज न हम न तुम हो
Neeraj Agarwal
*छतरी (बाल कविता)*
*छतरी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
Loading...