Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Sep 2022 · 1 min read

हमनवा कोई न था

ग़ज़ल

इक तुम्हारी याद जैसा क़ाफ़िला कोई न था।
बस तुम्हें यूँ छोड़कर अब रास्ता कोई न था।

साथ पल दो पल दिया और कुछ चले भी दूर तक,
पर घने इन गेसुओं सा आसरा कोई न था।

बेकसी थी ज़िंदगी में और उदासी थी बढ़ी,
पर हसीं वो दूसरा तो सिलसिला कोई न था।

दूर हमसे ख़ुद रहे तुम वक्त का था खेल सब,
दो दिलो में वैसे तो अब फ़ासला कोई न था।

क्यों किसी पे भी लुटा दे यूँ सुधा इस जान को,
दिल को मेरे समझे तुम सा हमनवा कोई न था।

डा• सुनीता सिंह “सुधा”
वाराणसी,©®

Language: Hindi
1 Like · 167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
AVINASH (Avi...) MEHRA
सारे ही चेहरे कातिल है।
सारे ही चेहरे कातिल है।
Taj Mohammad
नीलम शर्मा ✍️
नीलम शर्मा ✍️
Neelam Sharma
तुम बिन
तुम बिन
Dinesh Kumar Gangwar
आया पर्व पुनीत....
आया पर्व पुनीत....
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
SURYA PRAKASH SHARMA
🥀 #गुरु_चरणों_की_धूल 🥀
🥀 #गुरु_चरणों_की_धूल 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लोग शोर करते रहे और मैं निस्तब्ध बस सांस लेता रहा,
लोग शोर करते रहे और मैं निस्तब्ध बस सांस लेता रहा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
कृष्णकांत गुर्जर
संसार में सबसे
संसार में सबसे "सच्ची" वो दो औरतें हैं, जो टीव्ही पर ख़ुद क़ुब
*प्रणय प्रभात*
नव वर्ष (गीत)
नव वर्ष (गीत)
Ravi Prakash
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
नूरफातिमा खातून नूरी
अफसोस मेरे दिल पे ये रहेगा उम्र भर ।
अफसोस मेरे दिल पे ये रहेगा उम्र भर ।
Phool gufran
सफर या रास्ता
सफर या रास्ता
Manju Singh
रिश्ते चाहे जो भी हो।
रिश्ते चाहे जो भी हो।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
3307.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3307.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
कैसे आंखों का
कैसे आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
लिख दूं
लिख दूं
Vivek saswat Shukla
वक्त की जेबों को टटोलकर,
वक्त की जेबों को टटोलकर,
अनिल कुमार
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
Manisha Manjari
बे-ख़ुद
बे-ख़ुद
Shyam Sundar Subramanian
बिहार–झारखंड की चुनिंदा दलित कविताएं (सम्पादक डा मुसाफ़िर बैठा & डा कर्मानन्द आर्य)
बिहार–झारखंड की चुनिंदा दलित कविताएं (सम्पादक डा मुसाफ़िर बैठा & डा कर्मानन्द आर्य)
Dr MusafiR BaithA
अपने वीर जवान
अपने वीर जवान
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"" *जब तुम हमें मिले* ""
सुनीलानंद महंत
गिलोटिन
गिलोटिन
Dr. Kishan tandon kranti
है नसीब अपना अपना-अपना
है नसीब अपना अपना-अपना
VINOD CHAUHAN
SHELTER OF LIFE
SHELTER OF LIFE
Awadhesh Kumar Singh
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
Bodhisatva kastooriya
“ फौजी और उसका किट ” ( संस्मरण-फौजी दर्शन )
“ फौजी और उसका किट ” ( संस्मरण-फौजी दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
Loading...