Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2022 · 1 min read

हमको आजमानें की।

पेश है पूरी ग़ज़ल…

सबको पड़ी है बस हमको आजमानें की।
फिक्र ना है किसी में हमको अपनानें की।।1।।

हर कतरा अश्क का समन्दर सा होता है।
कुव्वत है शबनम में शोले को बुझाने की।।2।।

क्या रोना किसी के छोड़कर यूं जाने पर।
जहां में ज़िंदगियां होती हैं आने जाने की।।3।।

किसपे करें अकीदा सब एक से लगते है।
सबकी ही कोशिशें हैं हमको मिटानें की।।4।।

धड़कनों को तुम्हारी कमी खलने लगी है।
मिली है सजा तुमसे हमें दिल लगाने की।।5।।

इश्क में हस्ती बेचैन होती है मिट जानें को।
आशिकी लगी रहती है सनम को पानें की।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 547 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मिस्टर एम
मिस्टर एम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तेरी हुसन ए कशिश  हमें जीने नहीं देती ,
तेरी हुसन ए कशिश हमें जीने नहीं देती ,
Umender kumar
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
Shivkumar Bilagrami
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
मसरूफियत बढ़ गई है
मसरूफियत बढ़ गई है
Harminder Kaur
एक नज़्म - बे - क़ायदा
एक नज़्म - बे - क़ायदा
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐प्रेम कौतुक-389💐
💐प्रेम कौतुक-389💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गोबरैला
गोबरैला
Satish Srijan
याद रहे कि
याद रहे कि
*Author प्रणय प्रभात*
फीसों का शूल : उमेश शुक्ल के हाइकु
फीसों का शूल : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इल्तिजा
इल्तिजा
Bodhisatva kastooriya
"सोज़-ए-क़ल्ब"- ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
भोले
भोले
manjula chauhan
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
संसार चलाएंगी बेटियां
संसार चलाएंगी बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
" ऐसा रंग भरो पिचकारी में "
Chunnu Lal Gupta
माता-पिता
माता-पिता
Saraswati Bajpai
কিছু ভালবাসার গল্প অমর হয়ে রয়
কিছু ভালবাসার গল্প অমর হয়ে রয়
Sakhawat Jisan
मोलभाव
मोलभाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुदरत
कुदरत
manisha
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
हरवंश हृदय
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
हो नहीं जब पा रहे हैं
हो नहीं जब पा रहे हैं
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
एक गजल
एक गजल
umesh mehra
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/ "पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बहुत आँखें तुम्हारी बोलती हैं
बहुत आँखें तुम्हारी बोलती हैं
Dr Archana Gupta
*आवारा कुत्तों की समस्या 【हास्य व्यंग्य】*
*आवारा कुत्तों की समस्या 【हास्य व्यंग्य】*
Ravi Prakash
2526.पूर्णिका
2526.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...