Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

हट जा भाल से रेखा

गीत

हट जा हट जा भाल से रेखा, ओ मेरी तकदीर
देख लिया संसार यह तेरा, क्या किसकी तस्वीर।।

लिख लिख काग़ज़ हम धर लेबे, जावें खुली किताब
मोर पंख से नाचें सपनें,आँखें लिखें हिसाब
बैठ बैठ किस्मत को रोवें, राजा रंक फकीर
देख लिया संसार यह तेरा, क्या किसकी तस्वीर

माथे माथे रचा बसा है, दुःख सुख का संजाल
काहे भेजे तू धरती पर, कटे न माया जाल
तुलसी, कुंडली, अर्घ्य समिधा, किस्मत की लकीर
देख लिया संसार यह तेरा, क्या किसकी तस्वीर।।

इन नैनों में पीर परागा, सुने न दिल की बात
घुट घुट कर जिया जीवे, कहे न कल की रात
हर भोर की एक कहानी, घर घर की तासीर
देख लिया संसार यह तेरा, क्या किसकी तस्वीर।

हट जा हट जा भाल से रेखा, ओ मेरी तक़दीर…

सूर्यकान्त द्विवेदी

Language: Hindi
Tag: गीत
49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* ऋतुराज *
* ऋतुराज *
surenderpal vaidya
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
Anil Mishra Prahari
रामायण से सीखिए,
रामायण से सीखिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्राण प्रतीस्था..........
प्राण प्रतीस्था..........
Rituraj shivem verma
Kathputali bana sansar
Kathputali bana sansar
Sakshi Tripathi
पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,
पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,
Mohan Pandey
*नौकरपेशा लोग रिटायर, होकर मस्ती करते हैं (हिंदी गजल)*
*नौकरपेशा लोग रिटायर, होकर मस्ती करते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Phool gufran
बरसात (विरह)
बरसात (विरह)
लक्ष्मी सिंह
हम पर ही नहीं
हम पर ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
कुंडलिया छंद की विकास यात्रा
कुंडलिया छंद की विकास यात्रा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ऐसा भी नहीं
ऐसा भी नहीं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फ्लाइंग किस और धूम्रपान
फ्लाइंग किस और धूम्रपान
Dr. Harvinder Singh Bakshi
मैं तो महज आग हूँ
मैं तो महज आग हूँ
VINOD CHAUHAN
"मौत से क्या डरना "
Yogendra Chaturwedi
आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
अज़ीब था
अज़ीब था
Mahendra Narayan
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
पूर्वार्थ
एकीकरण की राह चुनो
एकीकरण की राह चुनो
Jatashankar Prajapati
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
Keshav kishor Kumar
तू  फितरत ए  शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
Dr Tabassum Jahan
.....,
.....,
शेखर सिंह
गीतांश....
गीतांश....
Yogini kajol Pathak
2725.*पूर्णिका*
2725.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिल लगाएं भगवान में
दिल लगाएं भगवान में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भारत के राम
भारत के राम
करन ''केसरा''
इतनें रंगो के लोग हो गये के
इतनें रंगो के लोग हो गये के
Sonu sugandh
कविता(प्रेम,जीवन, मृत्यु)
कविता(प्रेम,जीवन, मृत्यु)
Shiva Awasthi
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
Loading...