Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2023 · 1 min read

हज़ारों रंग बदलो तुम

हज़ारों रंग बदलो तुम
हजार बाते बनाओ तुम
सुनो
तुम्हारी आंखे गवाह
होगी तुम्हारे
सच की
तुम्हारे फरेब की

134 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
हो गई है भोर
हो गई है भोर
surenderpal vaidya
■ आदी हैं मल-वमन के।।
■ आदी हैं मल-वमन के।।
*Author प्रणय प्रभात*
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माफी
माफी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अवसर
अवसर
संजय कुमार संजू
मेरी नज़्म, शायरी,  ग़ज़ल, की आवाज हो तुम
मेरी नज़्म, शायरी, ग़ज़ल, की आवाज हो तुम
अनंत पांडेय "INϕ9YT"
सृजन तेरी कवितायें
सृजन तेरी कवितायें
Satish Srijan
मां
मां
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
हे ! गणपति महाराज
हे ! गणपति महाराज
Ram Krishan Rastogi
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
Rj Anand Prajapati
सब कुर्सी का खेल है
सब कुर्सी का खेल है
नेताम आर सी
Mere shaksiyat  ki kitab se ab ,
Mere shaksiyat ki kitab se ab ,
Sakshi Tripathi
I've washed my hands of you
I've washed my hands of you
पूर्वार्थ
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
Acharya Rama Nand Mandal
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
Paras Nath Jha
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
Abhishek prabal
రామయ్య మా రామయ్య
రామయ్య మా రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*सीता-स्वयंवर : कुछ दोहे*
*सीता-स्वयंवर : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
नजराना
नजराना
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
"इच्छाशक्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
19)”माघी त्योहार”
19)”माघी त्योहार”
Sapna Arora
कोरोना महामारी
कोरोना महामारी
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
Mahender Singh
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
Manisha Manjari
जोड़ तोड़ सीखा नही ,सीखा नही विलाप।
जोड़ तोड़ सीखा नही ,सीखा नही विलाप।
manisha
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
शेखर सिंह
जुगनू
जुगनू
Gurdeep Saggu
* इंसान था रास्तों का मंजिल ने मुसाफिर ही बना डाला...!
* इंसान था रास्तों का मंजिल ने मुसाफिर ही बना डाला...!
Vicky Purohit
मैं तो महज पहचान हूँ
मैं तो महज पहचान हूँ
VINOD CHAUHAN
*प्यार तो होगा*
*प्यार तो होगा*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...