Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2016 · 1 min read

*हकीक़त का सामना*

सामना हकीकत का जो करते हैं
फ़िर कहाँ खयालों में जिया करते हैं
सुहानी हो जाती है हर इक डगर
प्रभु खुद उनकी मदद किया करते हैं
धर्मेन्द्र अरोड़ा

Language: Hindi
409 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"दो नावों पर"
Dr. Kishan tandon kranti
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक नज़्म - बे - क़ायदा
एक नज़्म - बे - क़ायदा
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अपने क़द से
अपने क़द से
Dr fauzia Naseem shad
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
कौन ?
कौन ?
साहिल
जिंदगी
जिंदगी
Madhavi Srivastava
आटा
आटा
संजय कुमार संजू
शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
आकाश महेशपुरी
महफिले सजाए हुए है
महफिले सजाए हुए है
Harminder Kaur
मेरा सपना
मेरा सपना
Adha Deshwal
''नवाबी
''नवाबी" बुरी नहीं। बशर्ते अपने बलबूते "पुरुषार्थ" के साथ की
*Author प्रणय प्रभात*
सारथी
सारथी
लक्ष्मी सिंह
होली की आयी बहार।
होली की आयी बहार।
Anil Mishra Prahari
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
Rohit yadav
आखों में नमी की कमी नहीं
आखों में नमी की कमी नहीं
goutam shaw
मैं अपने बिस्तर पर
मैं अपने बिस्तर पर
Shweta Soni
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सुनो...
सुनो...
हिमांशु Kulshrestha
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
Vandna Thakur
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
भीष्म के उत्तरायण
भीष्म के उत्तरायण
Shaily
कभी उसकी कदर करके देखो,
कभी उसकी कदर करके देखो,
पूर्वार्थ
नया युग
नया युग
Anil chobisa
सवर्ण पितृसत्ता, सवर्ण सत्ता और धर्मसत्ता के विरोध के बिना क
सवर्ण पितृसत्ता, सवर्ण सत्ता और धर्मसत्ता के विरोध के बिना क
Dr MusafiR BaithA
दरअसल बिहार की तमाम ट्रेनें पलायन एक्सप्रेस हैं। यह ट्रेनों
दरअसल बिहार की तमाम ट्रेनें पलायन एक्सप्रेस हैं। यह ट्रेनों
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जनरेशन गैप / पीढ़ी अंतराल
जनरेशन गैप / पीढ़ी अंतराल
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
निरुद्देश्य जीवन भी कोई जीवन होता है ।
निरुद्देश्य जीवन भी कोई जीवन होता है ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
gurudeenverma198
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...