Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

” हँसते हँसते , कट गया दिन ” !!

बिछ गयी चादर ,
दरिया किनारे !
होंसलों को देख ,
विहँसे नज़ारे !
चिंतन , मनन ,
विस्मरण हुआ !
अनछुए पहलुओं को ,
हमने छुआ !
एकांत में सरस –
लगे पल छिन !!

मिट गयी थकन ,
विश्राम करते !
फिर नया संबल ,
पा के हरषे !
जतन , कथन ,
अभिनंदन हुआ !
कसमसाते बंधनों में ,
कसकी हया !
नेह की बजी बंसी –
श्वासों की धुन !!

मुस्कराती धरा ,
आसमां लुटता !
प्रेम की गुंजन ,
मन थिरकता !
मगन , ठगन ,
आलिंगन हुआ !
धड़कते दिलों में ,
बहका जिया !
मुस्कानें अधर बसी –
ऐसे किये जतन !!

582 Views
You may also like:
शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
*श्री राजेंद्र कुमार शर्मा का निधन : एक युग का...
Ravi Prakash
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है। [भाग ७]
Anamika Singh
पानी का दर्द
Anamika Singh
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H. Amin
दया के तुम हो सागर पापा।
Taj Mohammad
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
मुस्कुराहटों के मूल्य
Saraswati Bajpai
ఎందుకు ఈ లోకం పరుగెడుతుంది.
Vijaykumar Gundal
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
✍️✍️हमदर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
रिंगटोन
पूनम झा 'प्रथमा'
बुलन्द अशआर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
पिता
Dr.Priya Soni Khare
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H. Amin
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
💐प्रेम की राह पर-29💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बच्चों को खूब लुभाते आम
Ashish Kumar
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
माँ
Dr. Meenakshi Sharma
" शौक बड़ी चीज़ है या मजबूरी "
Dr Meenu Poonia
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
बुंदेली दोहा शब्द- थराई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दाने दाने पर नाम लिखा है
Ram Krishan Rastogi
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
Loading...