Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Oct 2023 · 1 min read

स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:

स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:

निज जाति गुणगान ये सारा ,क्यूं कर मैंने ना स्वीकारा।
राजपूत हूं बात सही है, पर मुझमें वो बात नही है।
क्या वीर थे वो सेनानी, क्षत्रियों की अमिट कहानी।
महाराणाप्रताप कुंवरसिंह क्या थे योद्धा स्वअभिमानी।
प्रभु राम जीवन अध्याय , प्राण जाय पर वचन न जाय।
आज समय की मांग नहीं है सत्यनिष्ठ कोई बन पाय।
शोणित में अंगार नहीं है सीने में हुंकार नहीं है।
राजपूत के वचनों में जो होता था वो धार नहीं है।
नियति का जो कालचक्र है सर्वप्रथम अब हुआ अर्थ है।
वर्तमान की चाह अलग कि शौर्य पराक्रम वृथा व्यर्थ है।
निज वाणी पर टिक रह जाना आज समय की मांग नहीं है।
वादे पर हीं मर मिट जाना, आज समय की मांग नहीं है।
आज वक्त कहता ये मुझसे , शत्रु मित्र की बात नहीं है।
एक आचरण श्रेयकर अब तो,अर्थ संचयन बात सही है।
अर्थ संचयन करता रहता , निज वादे पे टिके न रहता।
राजपूत जो धारण करते ओज तेज ना रहा हमारा।
निज जाति सम्मान था प्यारा, पर इसकारण ना स्वीकारा।

अजय अमिताभ सुमन

146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ नही मिलता आसानी से,
कुछ नही मिलता आसानी से,
manjula chauhan
रमेशराज की कहमुकरियां
रमेशराज की कहमुकरियां
कवि रमेशराज
एक सपना देखा था
एक सपना देखा था
Vansh Agarwal
मेरे अल्फ़ाज़ मायने रखते
मेरे अल्फ़ाज़ मायने रखते
Dr fauzia Naseem shad
👌ग़ज़ल👌
👌ग़ज़ल👌
*Author प्रणय प्रभात*
एकदम सुलझे मेरे सुविचार..✍️🫡💯
एकदम सुलझे मेरे सुविचार..✍️🫡💯
Ms.Ankit Halke jha
फितरत
फितरत
Sidhartha Mishra
प्रेरणा
प्रेरणा
पूर्वार्थ
सत्य शुरू से अंत तक
सत्य शुरू से अंत तक
विजय कुमार अग्रवाल
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"जियो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
नर नारी
नर नारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मुस्कुराते रहे
मुस्कुराते रहे
Dr. Sunita Singh
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नजरिया-ए-नील पदम्
नजरिया-ए-नील पदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नमः शिवाय ।
नमः शिवाय ।
Anil Mishra Prahari
आप हरते हो संताप
आप हरते हो संताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बाल कविता: चूहा
बाल कविता: चूहा
Rajesh Kumar Arjun
Price less मोहब्बत 💔
Price less मोहब्बत 💔
Rohit yadav
तो शीला प्यार का मिल जाता
तो शीला प्यार का मिल जाता
Basant Bhagawan Roy
#गणतंत्र दिवस#
#गणतंत्र दिवस#
rubichetanshukla 781
23/100.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/100.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्वरचित कविता..✍️
स्वरचित कविता..✍️
Shubham Pandey (S P)
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
Writer_ermkumar
अपने कार्यों में अगर आप बार बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका
अपने कार्यों में अगर आप बार बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका
Paras Nath Jha
*अष्टभुजाधारी हमें, दो माता उपहार (कुंडलिया)*
*अष्टभुजाधारी हमें, दो माता उपहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
अनिल कुमार
निराशा क्यों?
निराशा क्यों?
Sanjay ' शून्य'
हाइकु
हाइकु
Prakash Chandra
"हास्य व्यंग्य"
Radhakishan R. Mundhra
Loading...