Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

स्वाभिमान

उस रात किसी ने मुझे झिंझोड़कर जगा दिया ,
उठकर देखा तो सामने एक साया था ,

मैंने पूछा कौन हो तुम ?
उसने कहा मैं तुम्हारा स्वाभिमान हूँ ,

अपने स्वार्थ के लिए तुम मुझे भूल चुके हो ,
अपने आप से तुम समझौता कर चुके हो ,
औरों के हाथों की कठपुतली बन चुके हो ,

तुम्हे ये पता नहीं है कि एक दिन तुम्हें
नकार दिया जाएगा ,
फिर खोया हुआ समय लौटकर
ना आएगा ,

अब भी समय रहते,
स्वार्थ की गहरी नींद से बाहर आओ ,
अपने अंतस्थ मुझे जगाओ ,

वरना, क्षोभ के सिवा कुछ हाथ न लगेगा ,
पश्चाताप की अग्नि में यह जीवन जलेगा।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
चतुर लोमड़ी
चतुर लोमड़ी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
Dard-e-Madhushala
Dard-e-Madhushala
Tushar Jagawat
भारत ने रचा इतिहास।
भारत ने रचा इतिहास।
Anil Mishra Prahari
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
Vishal babu (vishu)
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
सागर में अनगिनत प्यार की छटाएं है
सागर में अनगिनत प्यार की छटाएं है
'अशांत' शेखर
2975.*पूर्णिका*
2975.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
दुष्यन्त 'बाबा'
चलते जाना
चलते जाना
अनिल कुमार निश्छल
यादों की सुनवाई होगी
यादों की सुनवाई होगी
Shweta Soni
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
Atul "Krishn"
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
AMRESH KUMAR VERMA
गरीबी
गरीबी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*पहचानो अपना हुनर, अपनी प्रतिभा खास (कुंडलिया)*
*पहचानो अपना हुनर, अपनी प्रतिभा खास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अपना भी नहीं बनाया उसने और
अपना भी नहीं बनाया उसने और
कवि दीपक बवेजा
"खासियत"
Dr. Kishan tandon kranti
बड़ी होती है
बड़ी होती है
sushil sarna
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
नूरफातिमा खातून नूरी
सफलता
सफलता
Babli Jha
नफ़रत
नफ़रत
विजय कुमार अग्रवाल
वर्तमान युद्ध परिदृश्य एवं विश्व शांति तथा स्वतंत्र सह-अस्तित्व पर इसका प्रभाव
वर्तमान युद्ध परिदृश्य एवं विश्व शांति तथा स्वतंत्र सह-अस्तित्व पर इसका प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम कौतुक-328💐
💐प्रेम कौतुक-328💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चर्चित हो जाऊँ
चर्चित हो जाऊँ
संजय कुमार संजू
एहसास
एहसास
Vandna thakur
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
राहतों की हो गयी है मुश्किलों से दोस्ती,
राहतों की हो गयी है मुश्किलों से दोस्ती,
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
खुदारा मुझे भी दुआ दीजिए।
खुदारा मुझे भी दुआ दीजिए।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...