Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 6, 2022 · 1 min read

स्वाधीनता

हर एक मनुज की एक चाह
होती बस स्वाधीनता हमारी
कोई भी मनुष्य इस भुवन में
रहना चाहता नहीं दासत्व में ।

जीव, जंतु हो या फिर मानुष
रहना चाहता नहीं पराधीन में
सबको प्यारी होती है अपनी
स्वाधीनता भरी अपनी दुनिया ।

जयन्त की पक्षी से पूछो
क्या है उनका हालचाल ?
उड्डयन के लिए पर उनके
रहते होंगे कितने व्याकुल ।

हमें किसी को कभी भी यहां
करना चाहिए नहीं परितंत्र
हरेक प्रणीवान आत्मा को
स्वतंत्रता का दृढ़ है प्रभुत्व ।

सब आजादी की इस दुनिया में
लेना चाहता स्वाधीनता की दम
हमें कभी भी किसी प्राणी को
दासता में बांधने का न है स्वत्व ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

1 Like · 1 Comment · 117 Views
You may also like:
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
गुनाह ए इश्क।
Taj Mohammad
" भेड़ चाल कहूं या विडंबना "
Dr Meenu Poonia
✍️आज तारीख 7-7✍️
'अशांत' शेखर
# महकता बदन #
DR ARUN KUMAR SHASTRI
“ पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ
सच तो यह है
gurudeenverma198
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
में और मेरी बुढ़िया
Ram Krishan Rastogi
ओ जानें ज़ाना !
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
✍️मानो तो ये भी सही✍️
'अशांत' शेखर
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
मकान जला है।
Taj Mohammad
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
दर्शन शास्त्र के ज्ञाता, अतीत के महापुरुष
Mahender Singh Hans
एक तिरंगा मुझको ला दो
लक्ष्मी सिंह
*सावन आया (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
विचलित मन
AMRESH KUMAR VERMA
दौर।
Taj Mohammad
राष्ट्रीय ध्वज का इतिहास
Ram Krishan Rastogi
निशां बाकी हैं।
Taj Mohammad
'हाथी ' बच्चों का साथी
Buddha Prakash
माँ दुर्गे!
Anamika Singh
बुंदेली दोहा-डबला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
मैं तेरी आशिकी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
Loading...