Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2024 · 1 min read

स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम

स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
फरेबियों से बच कर रहना , दुर्बलता का त्याग करो तुम

पंकज से तुम पावन रहना , सत्य राह निर्बाध बढ़ो तुम
कर्म राह आदर्श हो तेरा , तपस्वी सा जीवन जियो तुम

बाधाओं से मत घबराना, स्वयं पर विश्वास करो तुम
गरिमामय हो छवि तुम्हारी , रत्नाकर सा ह्रदय विशाल बनो तुम

मनभावन हो रूप तुम्हारा , खुद से ही प्यार करो तुम
अहंकार तुझको न घेरे , ऐसे सुप्रयास करो तुम

मर्यादित जीवन हो तेरा , ऐसे कुछ आदर्श वरो तुम
आकर्षक व्यक्तित्व हो तेरा , ऐसे संस्कारित बनो तुम

धर्मानुकूल आचरण हो तेरा , ऐसे सन्यासी बनो तुम
अभिनन्दन हर जगह हो तेरा , ऐसे व्यक्तित्व बनो तुम

प्रभु भक्ति में जीवन बीते , सर्वश्रेष्ठ भक्त बनो तुम
नैतिकता हो राह तुम्हारी , ऐसे उत्तम चरित्र बनो तुम

स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
फरेबियों से बच कर रहना , दुर्बलता का त्याग करो तुम

Language: Hindi
1 Like · 80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
हे देश मेरे
हे देश मेरे
Satish Srijan
प्री वेडिंग की आँधी
प्री वेडिंग की आँधी
Anil chobisa
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
Dr. Man Mohan Krishna
कभी हमको भी याद कर लिया करो
कभी हमको भी याद कर लिया करो
gurudeenverma198
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
Rituraj shivem verma
मुखौटा!
मुखौटा!
कविता झा ‘गीत’
शक
शक
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
हक़ीक़त का आईना था
हक़ीक़त का आईना था
Dr fauzia Naseem shad
Mere shaksiyat  ki kitab se ab ,
Mere shaksiyat ki kitab se ab ,
Sakshi Tripathi
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
Sakhawat Jisan
चुनौती
चुनौती
Ragini Kumari
*कुमुद की अमृत ध्वनि- सावन के झूलें*
*कुमुद की अमृत ध्वनि- सावन के झूलें*
रेखा कापसे
मंत्र: श्वेते वृषे समारुढा, श्वेतांबरा शुचि:। महागौरी शुभ दध
मंत्र: श्वेते वृषे समारुढा, श्वेतांबरा शुचि:। महागौरी शुभ दध
Harminder Kaur
बच्चों के पिता
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
रामेश्वरम लिंग स्थापना।
रामेश्वरम लिंग स्थापना।
Acharya Rama Nand Mandal
तो मैं राम ना होती....?
तो मैं राम ना होती....?
Mamta Singh Devaa
जीवन के सारे सुख से मैं वंचित हूँ,
जीवन के सारे सुख से मैं वंचित हूँ,
Shweta Soni
गर कभी आओ मेरे घर....
गर कभी आओ मेरे घर....
Santosh Soni
बिहार एवं झारखण्ड के दलक कवियों में विगलित दलित व आदिवासी-चेतना / मुसाफ़िर बैठा
बिहार एवं झारखण्ड के दलक कवियों में विगलित दलित व आदिवासी-चेतना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*पाऊँ पद हरि आपके , प्रभु जी करो विचार【भक्ति-कुंडलिया】*
*पाऊँ पद हरि आपके , प्रभु जी करो विचार【भक्ति-कुंडलिया】*
Ravi Prakash
ओम के दोहे
ओम के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
इश्क़ चाहत की लहरों का सफ़र है,
इश्क़ चाहत की लहरों का सफ़र है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
■ सनातन पर्वों के ख़िलाफ़ हमारे अपने झूठे संगठन।
■ सनातन पर्वों के ख़िलाफ़ हमारे अपने झूठे संगठन।
*Author प्रणय प्रभात*
कैसा फसाना है
कैसा फसाना है
Dinesh Kumar Gangwar
कुछ दर्द झलकते आँखों में,
कुछ दर्द झलकते आँखों में,
Neelam Sharma
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
3049.*पूर्णिका*
3049.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...