Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 May 2023 · 1 min read

स्वयं आएगा

जबतक तू मुसाफिर रहेगा रास्ता रब दिखाएगा,
अगर सीखने की नियत होगी तेरी,

ईश्वर तुझे उत्तम बनाएगा,
ज्यों तुझे अभिमान इस बुद्धि पर होगा,

तेरा विवेक ही तुझे धरातल में डूबाएगा,
जो याचक बनकर झोली फैलाएगा उसके सामने,

वो तेरे गुरु के रूप में स्वयं आएगा,
वो तेरे गुरु के रूप में स्वयं आएगा।।

…….✍️
चक्षिमा भारद्वाज “खुशी”

1 Like · 449 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
SADEEM NAAZMOIN
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
किस-किस को समझाओगे
किस-किस को समझाओगे
शिव प्रताप लोधी
व्यवहार कैसा होगा बोल बता देता है..,
व्यवहार कैसा होगा बोल बता देता है..,
कवि दीपक बवेजा
💐प्रेम कौतुक-464💐
💐प्रेम कौतुक-464💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
!! कोई आप सा !!
!! कोई आप सा !!
Chunnu Lal Gupta
तुम्हारी आँखें...।
तुम्हारी आँखें...।
Awadhesh Kumar Singh
दोहे
दोहे
Santosh Soni
यदि हर कोई आपसे खुश है,
यदि हर कोई आपसे खुश है,
नेताम आर सी
इंसान इंसानियत को निगल गया है
इंसान इंसानियत को निगल गया है
Bhupendra Rawat
माँ
माँ
संजय कुमार संजू
3179.*पूर्णिका*
3179.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आत्मरक्षा
आत्मरक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यादों का थैला लेकर चले है
यादों का थैला लेकर चले है
Harminder Kaur
कीमतों ने छुआ आसमान
कीमतों ने छुआ आसमान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किराएदार
किराएदार
Satish Srijan
कल देखते ही फेरकर नजरें निकल गए।
कल देखते ही फेरकर नजरें निकल गए।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
पिरामिड -यथार्थ के रंग
पिरामिड -यथार्थ के रंग
sushil sarna
Poem on
Poem on "Maa" by Vedaanshii
Vedaanshii Vijayvargi
लोगबाग जो संग गायेंगे होली में
लोगबाग जो संग गायेंगे होली में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पाती
पाती
डॉक्टर रागिनी
जब मैं परदेश जाऊं
जब मैं परदेश जाऊं
gurudeenverma198
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
शिक्षक हमारे देश के
शिक्षक हमारे देश के
Bhaurao Mahant
अजी क्षमा हम तो अत्याधुनिक हो गये है
अजी क्षमा हम तो अत्याधुनिक हो गये है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
■ व्यंग्य आलेख- काहे का प्रोटोकॉल...?
■ व्यंग्य आलेख- काहे का प्रोटोकॉल...?
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...