Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2022 · 1 min read

*स्वच्छता का अभियान चलाते(मुक्तक)*

स्वच्छता का अभियान चलाते(मुक्तक)
————————————
अपने घर के भीतर झाड़ू अपने आप लगाते
मुख्य द्वार को झाड़ू लेकर शीशे-सा चमकाते
भरी बाल्टी-पानी-पोछा है जिनके हाथों में
धन्य-धन्य जो रोज स्वच्छता का अभियान चलाते
——————-
रचयिता:रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा
रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
201 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
* संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 6 अप्रैल
* संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 6 अप्रैल
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
किसी दर्दमंद के घाव पर
किसी दर्दमंद के घाव पर
Satish Srijan
बदल जाओ या बदलना सीखो
बदल जाओ या बदलना सीखो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चांद को तो गुरूर होगा ही
चांद को तो गुरूर होगा ही
Manoj Mahato
11कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
11कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
Dr Archana Gupta
स्नेह - प्यार की होली
स्नेह - प्यार की होली
Raju Gajbhiye
कैसे कांटे हो तुम
कैसे कांटे हो तुम
Basant Bhagawan Roy
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
Keshav kishor Kumar
بدل گیا انسان
بدل گیا انسان
Ahtesham Ahmad
बेफिक्र तेरे पहलू पे उतर आया हूं मैं, अब तेरी मर्जी....
बेफिक्र तेरे पहलू पे उतर आया हूं मैं, अब तेरी मर्जी....
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अंधकार जो छंट गया
अंधकार जो छंट गया
Mahender Singh
ঐটা সত্য
ঐটা সত্য
Otteri Selvakumar
कशमें मेरे नाम की।
कशमें मेरे नाम की।
Diwakar Mahto
पहचान
पहचान
Dr.Priya Soni Khare
संध्या वंदन कीजिए,
संध्या वंदन कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सत्य तो सीधा है, सरल है
सत्य तो सीधा है, सरल है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कितनी सहमी सी
कितनी सहमी सी
Dr fauzia Naseem shad
क़यामत ही आई वो आकर मिला है
क़यामत ही आई वो आकर मिला है
Shweta Soni
2488.पूर्णिका
2488.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पंचचामर मुक्तक
पंचचामर मुक्तक
Neelam Sharma
जीवन का सफर
जीवन का सफर
Sidhartha Mishra
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
नर नारी संवाद
नर नारी संवाद
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
Dr Tabassum Jahan
जून की दोपहर
जून की दोपहर
Kanchan Khanna
लक्ष्य
लक्ष्य
Mukta Rashmi
प्रेम छिपाये ना छिपे
प्रेम छिपाये ना छिपे
शेखर सिंह
"इन्तहा"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...