Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2023 · 1 min read

स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में….

स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में ….

दुआ-बद्दुआ जिस-जिस से मिली, फलती रही।
किस्मत भी टेढ़ी-मेढ़ी, चाल अपनी चलती रही।

झुलसता रहा जीवन, संघर्ष-अनल-आवर्त में,
प्रीत-वर्तिका भी मद्धम, बीच रिदय जलती रही।

नेह-प्यासा मन भ्रमित हो, तप्त मरू तक आया,
मरीचिका-सी जिंदगी, भुलावा दे-दे छलती रही।

साँझ ढले घिर आया, तमस अमा का जिंदगी में,
भीगी-भीगी सी शम्आ, बुझती रही जलती रही।

उफ ! कैसा नूर था, उस चन्द्र-वलय से आनन में,
हर शब ही मन में चाँदनी, घुलती-पिघलती रही।

उमड़-घुमड़कर मेघ गम के, पलकों पर आ ठहरे।
नयन बने टकसाल, पीर अश्रु बन ढलती रही।

यूँ ही जगते रात बीती, नींद कहाँ और चैन कहाँ ?
स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में, चित्रपटी चलती रही।

तामझाम सब समेट जग से, बैठी ‘सीमा’ राह में,
मौत दर तक आते-आते, जाने क्यों टलती रही।

©-सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद
‘मृगतृषा’ से

Language: Hindi
2 Likes · 4 Comments · 205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
हुनर
हुनर
अखिलेश 'अखिल'
लड्डू बद्री के ब्याह का
लड्डू बद्री के ब्याह का
Kanchan Khanna
केशों से मुक्ता गिरे,
केशों से मुक्ता गिरे,
sushil sarna
बचपन
बचपन
नूरफातिमा खातून नूरी
हों कामयाबियों के किस्से कहाँ फिर...
हों कामयाबियों के किस्से कहाँ फिर...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
अंगदान
अंगदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कभी-कभी दिल को भी अपडेट कर लिया करो .......
कभी-कभी दिल को भी अपडेट कर लिया करो .......
shabina. Naaz
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
अनिल कुमार
22)”शुभ नवरात्रि”
22)”शुभ नवरात्रि”
Sapna Arora
If We Are Out Of Any Connecting Language.
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
दोहे- उड़ान
दोहे- उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
* माई गंगा *
* माई गंगा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रहती है किसकी सदा, मरती मानव-देह (कुंडलिया)
रहती है किसकी सदा, मरती मानव-देह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
महादेवी वर्मा जी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि
महादेवी वर्मा जी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि
Harminder Kaur
3429⚘ *पूर्णिका* ⚘
3429⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Midnight success
Midnight success
Bidyadhar Mantry
हुआ है अच्छा ही, उनके लिए तो
हुआ है अच्छा ही, उनके लिए तो
gurudeenverma198
मां ब्रह्मचारिणी
मां ब्रह्मचारिणी
Mukesh Kumar Sonkar
किस्मत
किस्मत
Vandna thakur
दिया है नसीब
दिया है नसीब
Santosh Shrivastava
जीवन संघर्ष
जीवन संघर्ष
Omee Bhargava
आँखों से नींदे
आँखों से नींदे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
चैन क्यों हो क़रार आने तक
चैन क्यों हो क़रार आने तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
पत्थर (कविता)
पत्थर (कविता)
Pankaj Bindas
हर खुशी को नजर लग गई है।
हर खुशी को नजर लग गई है।
Taj Mohammad
अकथ कथा
अकथ कथा
Neelam Sharma
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
The_dk_poetry
Loading...