Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

स्मृतियाँ

स्मृतियाँ
अतीत का
चलचित्र बन
मानसपट पर
उभरती हैं,
कौंधती हैं
दामिनी सी।
कभी सुभग,
कभी मर्मघाती,
तानाबाना
बुनता है
उथला सिंधु सा
अनुस्मरण।
मनुज
प्लवक बन
जलचर-सा
परिपल्व करता है,
सँवर की
प्रकृत
थाह लेने
और
मिथक से
जूझने का।

Language: Hindi
58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐अज्ञात के प्रति-30💐
💐अज्ञात के प्रति-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फूलों की बात हमारे,
फूलों की बात हमारे,
Neeraj Agarwal
तितली संग बंधा मन का डोर
तितली संग बंधा मन का डोर
goutam shaw
राखी प्रेम का बंधन
राखी प्रेम का बंधन
रवि शंकर साह
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
पूर्वार्थ
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Phool gufran
हम जैसे बरबाद ही,
हम जैसे बरबाद ही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*कौन है ये अबोध बालक*
*कौन है ये अबोध बालक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
Shyam Sundar Subramanian
2636.पूर्णिका
2636.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सच का सच
सच का सच
डॉ० रोहित कौशिक
दस्तक
दस्तक
Satish Srijan
एक छोटी सी रचना आपसी जेष्ठ श्रेष्ठ बंधुओं के सम्मुख
एक छोटी सी रचना आपसी जेष्ठ श्रेष्ठ बंधुओं के सम्मुख
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
समस्त जगतकी बहर लहर पर,
समस्त जगतकी बहर लहर पर,
Neelam Sharma
सर्दी
सर्दी
Dhriti Mishra
अच्छे किरदार की
अच्छे किरदार की
Dr fauzia Naseem shad
🍁
🍁
Amulyaa Ratan
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
Ajay Kumar Vimal
कब तक बचोगी तुम
कब तक बचोगी तुम
Basant Bhagawan Roy
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
Propose Day
Propose Day
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
शब्द
शब्द
Ajay Mishra
साधना की मन सुहानी भोर से
साधना की मन सुहानी भोर से
OM PRAKASH MEENA
*राम-अयोध्या-सरयू का जल, भारत की पहचान हैं (गीत)*
*राम-अयोध्या-सरयू का जल, भारत की पहचान हैं (गीत)*
Ravi Prakash
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
Chunnu Lal Gupta
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
जिसने भी तुमको देखा है पहली बार ..
जिसने भी तुमको देखा है पहली बार ..
Tarun Garg
***
***
sushil sarna
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
मुक्तक
मुक्तक
Rashmi Sanjay
Loading...