Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2023 · 1 min read

स्थायित्व (Stability)

स्थायित्व

stability

(ब्रह्मांड का जर्रा जर्रा शान्ति, आराम और स्थायित्व चाहता है)

ब्रह्मांड का हर कण दूसरे कण को

आकर्षित अथवा प्रतिकर्षित

करता रहता है सतत..

ताप,दाब और सम्बेदनाओं से प्रभावित

टूटता-जुड़ता हुआ

नये रूप अथवा आकर के लिए लालायित..

अस्तिथिर होकर

अस्थिरता से स्थिरता के खातिर तत्तपर..

दूसरे ही छन नए स्वरूप और

पहचान की कामना लिए

विचरित करता है

वन के स्वतंत्र हिरण की भांति

अपनत्व को खोजते हुए

अंधेरों और उजालों में..

थक-हार कर ताकने लगता है

ऊपर फैले नीले-काले व्योम में दूर तलक

एक ऐसी यात्रा की सवारी

जिसका अंत सिर्फ अनन्त है,

चलायमान है नदियों की नीर की तरह

जो सूख जाती हैं हर वैशाख तक अब..

सहता रहता है कुदरत के धूप-छांव

और दुनिया के रीतोरवाज..,

लड़खड़ाता-संभालता और

उलझता,सुलझता हुआ।

छोटे-बड़े कदमो से बढ़ता रहता है

स्थिरता की ओर..

तिनके से अहमब्रम्हाष्मी की विभूति तक..,

असंम्भव अभिलाषा लिए एक जातक की भांति

नीति अनीत विसार कर

सगे-सहगामी को विलग कर

अंततः संस्मरण और कल्पनाओं की अस्थायी स्थिरता का आलिंगन करता है

– श्यामजी

Language: Hindi
3 Likes · 514 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यदि आपका स्वास्थ्य
यदि आपका स्वास्थ्य
Paras Nath Jha
■क्षणिका■
■क्षणिका■
*Author प्रणय प्रभात*
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
खाटू श्याम जी
खाटू श्याम जी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बरखा
बरखा
Dr. Seema Varma
यादें मोहब्बत की
यादें मोहब्बत की
Mukesh Kumar Sonkar
परिवर्तन
परिवर्तन
विनोद सिल्ला
पैसा
पैसा
Sanjay ' शून्य'
एक तू ही नहीं बढ़ रहा , मंजिल की तरफ
एक तू ही नहीं बढ़ रहा , मंजिल की तरफ
कवि दीपक बवेजा
नारी की स्वतंत्रता
नारी की स्वतंत्रता
SURYA PRAKASH SHARMA
विजेता सूची- “सत्य की खोज” – काव्य प्रतियोगिता
विजेता सूची- “सत्य की खोज” – काव्य प्रतियोगिता
Sahityapedia
आज़ ज़रा देर से निकल,ऐ चांद
आज़ ज़रा देर से निकल,ऐ चांद
Keshav kishor Kumar
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
Rekha khichi
ना मुराद फरीदाबाद
ना मुराद फरीदाबाद
ओनिका सेतिया 'अनु '
💐प्रेम कौतुक-311💐
💐प्रेम कौतुक-311💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शीर्षक:इक नज़र का सवाल है।
शीर्षक:इक नज़र का सवाल है।
Lekh Raj Chauhan
मैं क्या लिखूँ
मैं क्या लिखूँ
Aman Sinha
कहां  गए  वे   खद्दर  धारी  आंसू   सदा   बहाने  वाले।
कहां गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
हे कौन वहां अन्तश्चेतना में
हे कौन वहां अन्तश्चेतना में
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*सुख से सबसे वे रहे, पेंशन जिनके पास (कुंडलिया)*
*सुख से सबसे वे रहे, पेंशन जिनके पास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रम्भा की मी टू
रम्भा की मी टू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2607.पूर्णिका
2607.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*हिंदी दिवस*
*हिंदी दिवस*
Atul Mishra
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भटके वन चौदह बरस, त्यागे सिर का ताज
भटके वन चौदह बरस, त्यागे सिर का ताज
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब जब ……
जब जब ……
Rekha Drolia
********* आजादी की कीमत **********
********* आजादी की कीमत **********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Kathputali bana sansar
Kathputali bana sansar
Sakshi Tripathi
Loading...