Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2024 · 1 min read

स्त्री यानी

स्त्री यानी
वात्सल्य,
स्त्री यानी
मांगल्य,
स्त्री यानी
मातृत्व,
स्त्री यानी
कर्तव्य,
स्त्री यानी
समर्पण,
स्त्री यानी
एक विशाल वृक्ष
जिसकी छाया में
सुख ही सुख है

#HappyWomensDay❤️

100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक तूही दयावान
एक तूही दयावान
Basant Bhagawan Roy
रिश्ता कमज़ोर
रिश्ता कमज़ोर
Dr fauzia Naseem shad
दिल जल रहा है
दिल जल रहा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*तंजीम*
*तंजीम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो कपटी कहलाते हैं !!
वो कपटी कहलाते हैं !!
Ramswaroop Dinkar
हो असत का नगर तो नगर छोड़ दो।
हो असत का नगर तो नगर छोड़ दो।
Sanjay ' शून्य'
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
Writer_ermkumar
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
सत्य कुमार प्रेमी
हमारा सफ़र
हमारा सफ़र
Manju sagar
घर घर रंग बरसे
घर घर रंग बरसे
Rajesh Tiwari
उसकी सुनाई हर कविता
उसकी सुनाई हर कविता
हिमांशु Kulshrestha
बैलगाड़ी के नीचे चलने वालों!
बैलगाड़ी के नीचे चलने वालों!
*प्रणय प्रभात*
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
संतुलित रहें सदा जज्बात
संतुलित रहें सदा जज्बात
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तेरी यादों के आईने को
तेरी यादों के आईने को
Atul "Krishn"
* सामने आ गये *
* सामने आ गये *
surenderpal vaidya
"प्रेम और क्रोध"
Dr. Kishan tandon kranti
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
कवि दीपक बवेजा
भजन - माॅं नर्मदा का
भजन - माॅं नर्मदा का
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
2766. *पूर्णिका*
2766. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फिर पर्दा क्यूँ है?
फिर पर्दा क्यूँ है?
Pratibha Pandey
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मैं अकेला महसूस करता हूं
मैं अकेला महसूस करता हूं
पूर्वार्थ
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
डिजेन्द्र कुर्रे
पर्यावरण
पर्यावरण
नवीन जोशी 'नवल'
वक्त वक्त की बात है ,
वक्त वक्त की बात है ,
Yogendra Chaturwedi
*अंतःकरण- ईश्वर की वाणी : एक चिंतन*
*अंतःकरण- ईश्वर की वाणी : एक चिंतन*
नवल किशोर सिंह
हमेशा के लिए कुछ भी नहीं है
हमेशा के लिए कुछ भी नहीं है
Adha Deshwal
Loading...