Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2023 · 1 min read

हे! ज्ञानदायनी

स्तुति करते तेरे चरणों में,
मन में फैला अंधकार हरो।
हे!ज्ञानदायनी शारद मां,
शत बार नमन स्वीकार करो।

प्रतिवर्ष पंचमी शुक्ल माघ,
माँ तेरा जन्म मनाते हैं।
अपनी श्रद्धा सामर्थ्य से हम,
तेरा श्रृंगार कराते है।
वीणा झनकार करा दो मां,
मन से अज्ञान हरा दो माँ।
अपनी कृपा हर बार करो
शत बार नमन स्वीकार करो।

जग तुम्हें पुकारे सरस्वती,
पूजे जन तपसी यती सती।
तुम ही हो ब्रह्मचारिणी मां।
वरदायनी वीणाधारिणी माँ।
तेरी कृपा जो भी पाता,
सारा का सारा तम जाता।
चाकर अपने दरबार करो।
शत बार नमन स्वीकार करो।

तेरा वाहन मां हंस धवल,
भक्तों को देती ज्ञान प्रवल।
तामस प्रचण्ड से भरे हैं हम,
जड़ता मन से न होती कम।
मुझमें अनुराग जगा दो मां,
चित हरि चरणों में लगा दो मां।
‘सृजन’ पर भी उपकार करो।
शत बार नमन स्वीकार करो।

स्तुति करते तेरे चरणों में,
मन में फैला अंधकार हरो।
हे!ज्ञान की देवी शारद मां,
शत बार नमन स्वीकार करो।

सतीश सृजन, लखनऊ.

2 Likes · 239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
मन मूरख बहुत सतावै
मन मूरख बहुत सतावै
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Destiny
Destiny
Dhriti Mishra
एक किताब सी तू
एक किताब सी तू
Vikram soni
दिनकर तुम शांत हो
दिनकर तुम शांत हो
भरत कुमार सोलंकी
मानवता की बलिवेदी पर सत्य नहीं झुकता है यारों
मानवता की बलिवेदी पर सत्य नहीं झुकता है यारों
प्रेमदास वसु सुरेखा
"कुण्डलिया"
surenderpal vaidya
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
Taj Mohammad
टमाटर का जलवा ( हास्य -रचना )
टमाटर का जलवा ( हास्य -रचना )
Dr. Harvinder Singh Bakshi
काफी लोगो ने मेरे पढ़ने की तेहरिन को लेकर सवाल पूंछा
काफी लोगो ने मेरे पढ़ने की तेहरिन को लेकर सवाल पूंछा
पूर्वार्थ
"" *भारत* ""
सुनीलानंद महंत
किसी दर्दमंद के घाव पर
किसी दर्दमंद के घाव पर
Satish Srijan
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
सच सच कहना
सच सच कहना
Surinder blackpen
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।
सत्य कुमार प्रेमी
दुविधा
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
■ अनियंत्रित बोल और बातों में झोल।।
■ अनियंत्रित बोल और बातों में झोल।।
*Author प्रणय प्रभात*
تونے جنت کے حسیں خواب دکھائے جب سے
تونے جنت کے حسیں خواب دکھائے جب سے
Sarfaraz Ahmed Aasee
क्यों नहीं देती हो तुम, साफ जवाब मुझको
क्यों नहीं देती हो तुम, साफ जवाब मुझको
gurudeenverma198
फिदरत
फिदरत
Swami Ganganiya
रूठना मनाना
रूठना मनाना
Aman Kumar Holy
हाइकु (#हिन्दी)
हाइकु (#हिन्दी)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ज़माना इश्क़ की चादर संभारने आया ।
ज़माना इश्क़ की चादर संभारने आया ।
Phool gufran
नमस्कार मित्रो !
नमस्कार मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
*पिता का प्यार*
*पिता का प्यार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"तुम ही"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल चेहरा आईना
दिल चेहरा आईना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रावण की हार .....
रावण की हार .....
Harminder Kaur
रोला छंद :-
रोला छंद :-
sushil sarna
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
कवि दीपक बवेजा
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
जय लगन कुमार हैप्पी
Loading...