Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Dec 2022 · 1 min read

*सौतेला हुआ व्यवहार है (हिंदी गजल/गीतिका)*

सौतेला हुआ व्यवहार है (हिंदी गजल/गीतिका)
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
(1)
हिंदुओं के साथ सौतेला हुआ व्यवहार है
यह अमर्यादित बहुत अनुदार एक विचार है
(2)
खोलने का कॉलेजों का अर्थ क्या स्वातंत्र्य का
यदि चलाने का न किंचित आपका अधिकार है
(3)
देश में अपने ही दर्जा दूसरा है मिल गया
हिंदू को विद्यालय चलाना हो गया दुश्वार है
(4)
एक जैसा हो विधान समस्त भारत देश में
हिंदू-अहिंदू में विभाजन का न कोई सार है
(5)
संशोधनों की जो जरूरत हो जहाँ कर लीजिए
अन्याय यह हिंदू के सँग में दिख रहा साकार है
—————————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
कि दे दो हमें मोदी जी
कि दे दो हमें मोदी जी
Jatashankar Prajapati
2490.पूर्णिका
2490.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
आज हम सब करें शक्ति की साधना।
आज हम सब करें शक्ति की साधना।
surenderpal vaidya
'सफलता' वह मुकाम है, जहाँ अपने गुनाहगारों को भी गले लगाने से
'सफलता' वह मुकाम है, जहाँ अपने गुनाहगारों को भी गले लगाने से
satish rathore
जिंदगी को बोझ मान
जिंदगी को बोझ मान
भरत कुमार सोलंकी
परिवर्तन
परिवर्तन
Paras Nath Jha
ਮਿਲੇ ਜਦ ਅਰਸੇ ਬਾਅਦ
ਮਿਲੇ ਜਦ ਅਰਸੇ ਬਾਅਦ
Surinder blackpen
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
रेखा कापसे
दिल में मेरे
दिल में मेरे
हिमांशु Kulshrestha
पल पल रंग बदलती है दुनिया
पल पल रंग बदलती है दुनिया
Ranjeet kumar patre
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जननी
जननी
Mamta Rani
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
Neelam Sharma
हर प्रेम कहानी का यही अंत होता है,
हर प्रेम कहानी का यही अंत होता है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
#जयहिंद
#जयहिंद
Rashmi Ranjan
Mai pahado ki darak se bahti hu,
Mai pahado ki darak se bahti hu,
Sakshi Tripathi
#आह्वान_तंत्र_का
#आह्वान_तंत्र_का
*प्रणय प्रभात*
दरदू
दरदू
Neeraj Agarwal
राखी की यह डोर।
राखी की यह डोर।
Anil Mishra Prahari
वाह भाई वाह
वाह भाई वाह
gurudeenverma198
तप रही जमीन और
तप रही जमीन और
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बसंती हवा
बसंती हवा
Arvina
एक बार बोल क्यों नहीं
एक बार बोल क्यों नहीं
goutam shaw
भीड़ की नजर बदल रही है,
भीड़ की नजर बदल रही है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
विश्व कप
विश्व कप
Pratibha Pandey
पल
पल
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
नरसिंह अवतार विष्णु जी
नरसिंह अवतार विष्णु जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
عبادت کون کرتا ہے
عبادت کون کرتا ہے
Dr fauzia Naseem shad
Loading...