Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2024 · 1 min read

सौंदर्य मां वसुधा की

सौंदर्य मां वसुधा की
🌷🌷☘️🍀🌷
मनमोहक मोहनी मां वसुधा की
सौंदर्य भरी रचना प्रकृति माता की
कोमल किसलय नाजुक पाती
अमूल्य घरोहर ऋष्टि कर्त्ता की

ऑख निराली कानों की बाली
माथे बिंदिया चमक सुहागिन नारी
निखरती रंग विरंगे कुसम पिरोये

रंग विरंगे कुसुम पिरोये निखरती
केशों की नंद्यावर्त सी लहर तरंगें
गले सोहे स्वेत मोतियन की हार

स्वर्ण डायमण्ड दूजा लगे बेकार
बेली चमेली जूही चंपा फूल
जूड़े गजरा नयनों की कज़रा

अनल साक्षी लगते फेरे सात
चेहरा नीरखते सेहरे सरताज
मान सम्मान नारी की रक्षा में

लगे रहते सारे जन हिन्दुस्तान
कमल कोमल रक्त रंजित पग
पथ पंखुड़ियों पर चलते द्विपग

झन झन स्वर नूपुर निराले
मन मोहनी नारी घट घट वासी
पड़ पग पथ पर्णी सुकोमल

पीयूष स्त्रोत सी बहती नारी
नग तल स्वेत पग समतल में
कीचड़ कमल खिलाती नारी

घर पूजी जाती वसुधा नारी
सौंदर्य सुंदरता आकर्षक भारी
चंचल चितवन चंदन सी वदन

ओठों पर लाली गाल गुलाबी
सज्जी धज्जी अफ़सरा नारी
सृष्टि संस्कार जग संस्कारी नारी

सौंदर्य भरी न्यारी प्यारी है नारी
जीना पवित्र निर्मल निड़र हो नारी
तेरी रक्षा करती स्वंय दुर्गा काली
🌷🌹🍀☘️🙏🙏🍀☘️🌷
तारकेशवर प्रसाद तरूण

Language: Hindi
1 Like · 56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
चलो चलाए रेल।
चलो चलाए रेल।
Vedha Singh
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
ज़िन्दगी के सफर में राहों का मिलना निरंतर,
ज़िन्दगी के सफर में राहों का मिलना निरंतर,
Sahil Ahmad
हमारे जैसी दुनिया
हमारे जैसी दुनिया
Sangeeta Beniwal
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
2689.*पूर्णिका*
2689.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*आठ माह की अद्वी प्यारी (बाल कविता)*
*आठ माह की अद्वी प्यारी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दिल की हरकते दिल ही जाने,
दिल की हरकते दिल ही जाने,
Lakhan Yadav
जामुनी दोहा एकादश
जामुनी दोहा एकादश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ना तो हमारी तरह तुम्हें कोई प्रेमी मिलेगा,
ना तो हमारी तरह तुम्हें कोई प्रेमी मिलेगा,
Dr. Man Mohan Krishna
वो तो शहर से आए थे
वो तो शहर से आए थे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आ जाओ घर साजना
आ जाओ घर साजना
लक्ष्मी सिंह
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
कृष्णकांत गुर्जर
राम नाम
राम नाम
पंकज प्रियम
मौसम आया फाग का,
मौसम आया फाग का,
sushil sarna
दुनिया बदल सकते थे जो
दुनिया बदल सकते थे जो
Shekhar Chandra Mitra
खालीपन
खालीपन
करन ''केसरा''
अब ना होली रंगीन होती है...
अब ना होली रंगीन होती है...
Keshav kishor Kumar
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
कवि रमेशराज
बेटा तेरे बिना माँ
बेटा तेरे बिना माँ
Basant Bhagawan Roy
साए
साए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बावला
बावला
Ajay Mishra
दरारें छुपाने में नाकाम
दरारें छुपाने में नाकाम
*Author प्रणय प्रभात*
"व्याख्या-विहीन"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनी समस्या का समाधान_
अपनी समस्या का समाधान_
Rajesh vyas
"ऐसा मंजर होगा"
पंकज कुमार कर्ण
*वरद हस्त सिर पर धरो*..सरस्वती वंदना
*वरद हस्त सिर पर धरो*..सरस्वती वंदना
Poonam Matia
सोचें सदा सकारात्मक
सोचें सदा सकारात्मक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
स्थायित्व कविता
स्थायित्व कविता
Shyam Pandey
Loading...