Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

सोशल मीडिया पर नकेल

इरादे नेक नहीं लगते हैं
आजकल सरकार के!
रूह खौफ़जदा है हमारी
बर्बादी के आसार से!!
डीजिटल मीडिया को भी
लेना चाहती शिकंजे में!
वह करने के बाद कब्ज़ा
टीवी और अख़बार पे!!
#इंकलाब #गोदी #बहुजन #शायरी
#क्रांति #SocialMedia #protest
#अभिव्यक्ति_की_स्वतंत्रता #freedom

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बरसें प्रभुता-मेह...
बरसें प्रभुता-मेह...
डॉ.सीमा अग्रवाल
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
मंजिल यू‌ँ ही नहीं मिल जाती,
मंजिल यू‌ँ ही नहीं मिल जाती,
Yogendra Chaturwedi
हमारी जान तिरंगा, हमारी शान तिरंगा
हमारी जान तिरंगा, हमारी शान तिरंगा
gurudeenverma198
संबंधों के नाम बता दूँ
संबंधों के नाम बता दूँ
Suryakant Dwivedi
देव-कृपा / कहानीकार : Buddhsharan Hans
देव-कृपा / कहानीकार : Buddhsharan Hans
Dr MusafiR BaithA
बचपन
बचपन
लक्ष्मी सिंह
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#प्रतिनिधि_गीत_पंक्तियों के साथ हम दो वाणी-पुत्र
#प्रतिनिधि_गीत_पंक्तियों के साथ हम दो वाणी-पुत्र
*प्रणय प्रभात*
23/121.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/121.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जब पीड़ा से मन फटता है
जब पीड़ा से मन फटता है
पूर्वार्थ
पुरातत्वविद
पुरातत्वविद
Kunal Prashant
माटी
माटी
AMRESH KUMAR VERMA
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
सुख- दुःख
सुख- दुःख
Dr. Upasana Pandey
इश्क में डूबी हुई इक जवानी चाहिए
इश्क में डूबी हुई इक जवानी चाहिए
सौरभ पाण्डेय
करनी का फल
करनी का फल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
Rj Anand Prajapati
ऐ महबूब
ऐ महबूब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिक्षक
शिक्षक
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
I want my beauty to be my identity
I want my beauty to be my identity
Ankita Patel
"दस्तूर"
Dr. Kishan tandon kranti
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
बचपन का मौसम
बचपन का मौसम
Meera Thakur
कभी यदि मिलना हुआ फिर से
कभी यदि मिलना हुआ फिर से
Dr Manju Saini
किसी भी बात पर अब वो गिला करने नहीं आती
किसी भी बात पर अब वो गिला करने नहीं आती
Johnny Ahmed 'क़ैस'
श्रीमान - श्रीमती
श्रीमान - श्रीमती
Kanchan Khanna
शहद टपकता है जिनके लहजे से
शहद टपकता है जिनके लहजे से
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नया मानव को होता दिख रहा है कुछ न कुछ हर दिन।
नया मानव को होता दिख रहा है कुछ न कुछ हर दिन।
सत्य कुमार प्रेमी
*अपना भारत*
*अपना भारत*
मनोज कर्ण
Loading...