Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2023 · 2 min read

सोनू की चतुराई

सोनू की चतुराई

बहुत पुरानी बात है। नन्दन वन में अन्य बहुत सारे जीव जंतुओं के साथ मोनी नामक एक मैना भी रहती थी। वह बहुत घमंडी तथा मनमौजी स्वभाव की थी। दूसरों को परेशान करने, उनकी हँसी उड़ाने में उसे बहुत आनंद आता था। यही कारण है कि उसे कोई भी पसंद नहीं करता था। सभी उससे दूर ही रहते थे।

एक दिन की बात है। शाम हो चुकी थी, लेकिन उसे खाने को कुछ भी नहीं मिला था। उसे बहुत जोर की भूख लगी थी। तभी उसे सड़क किनारे रोटी जैसी कोई चीज दिखी। उसने पास जाकर देखा। रोटी ही थी। एकदम सूखी और कड़क। नहीं मामा से काना मामा भला सही, उसने सोचा। उसने रोटी को उलट-पलटकर साफ किया, फिर चोंच से रोटी को तोड़ने की प्रयास किया। पर रोटी थी कि टूटने का नाम ही न ले।

मोनी गुस्से से जोर-जोर से रोटी पर चोंच मारने लगी। रोटी तो नहीं टूटी, लेकिन मोनी की चोंच जख्मी जरूर हो गई।

पुराने बरगद पेड़ पर बैठा सोनेू कबूतर मोनी की हरकतों को बहुत देर से चुपचाप देख रहा था। सोनू मोनी के पास आकर बोला, ‘‘मोनी, यदि तुम इस रोटी का आधा हिस्सा मुझे दोगी, तो मैं तुम्हारी रोटी को खाने लायक बना दूँगा।’’

मोनी ने बड़े रूखेपन से जवाब दिया, ‘‘मुझे तुम्हारे सहयोग की कोई जरूरत नहीं है। मैं खुद इसे तोड़ सकती हूँ।’’ वह और भी जोर-जोर से चोंच मारने लगी। रोटी तो नहीं टूटी, हाँ मोनी के चोंच से खून टपकना जरूर शुरू हो गया। मोनी ने अगल-बगल देखा, जब कोई न दिखा, तो उसने रोटी को पास ही एक झाड़ी में फेंक कर उड़ गई।

उसे झाड़ी में फेंकते हुए सोनू ने देख लिया। वह बिना देर किए झाड़ी के पास गया। रोटी को चोंच में दबाकर पास के तालाब पर गया। रोटी को पानी में डुबाया। लाकर किनारे रखा। पाँच मिनट में ही रोटी मुलायम हो गई। उसे खाकर सोनू ने अपनी भूख मिटाई।
– डॉ . प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भर मुझको भुजपाश में, भुला गई हर राह ।
भर मुझको भुजपाश में, भुला गई हर राह ।
Arvind trivedi
ये मौसम ,हाँ ये बादल, बारिश, हवाएं, सब कह रहे हैं कितना खूबस
ये मौसम ,हाँ ये बादल, बारिश, हवाएं, सब कह रहे हैं कितना खूबस
Swara Kumari arya
प्रार्थना
प्रार्थना
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
दुनिया एक मेला है
दुनिया एक मेला है
VINOD CHAUHAN
ताकि वो शान्ति से जी सके
ताकि वो शान्ति से जी सके
gurudeenverma198
*हर शाम निहारूँ मै*
*हर शाम निहारूँ मै*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*सैनिक 【कुंडलिया】*
*सैनिक 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
एकदम सुलझे मेरे सुविचार..✍️🫡💯
एकदम सुलझे मेरे सुविचार..✍️🫡💯
Ms.Ankit Halke jha
युग परिवर्तन
युग परिवर्तन
आनन्द मिश्र
जय प्रकाश
जय प्रकाश
Jay Dewangan
हारो बेशक कई बार,हार के आगे झुको नहीं।
हारो बेशक कई बार,हार के आगे झुको नहीं।
Neelam Sharma
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
Paras Nath Jha
कर रहा हम्मास नरसंहार देखो।
कर रहा हम्मास नरसंहार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
खोखला अहं
खोखला अहं
Madhavi Srivastava
जगन्नाथ रथ यात्रा
जगन्नाथ रथ यात्रा
Pooja Singh
चलो आज खुद को आजमाते हैं
चलो आज खुद को आजमाते हैं
कवि दीपक बवेजा
"मोमबत्ती"
Dr. Kishan tandon kranti
यही जीवन है ।
यही जीवन है ।
Rohit yadav
दोहे
दोहे
सत्य कुमार प्रेमी
अनघड़ व्यंग
अनघड़ व्यंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2986.*पूर्णिका*
2986.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चंचल मन***चंचल मन***
चंचल मन***चंचल मन***
Dinesh Kumar Gangwar
" अंधेरी रातें "
Yogendra Chaturwedi
ऋतु परिवर्तन
ऋतु परिवर्तन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
भगतसिंह ने कहा था
भगतसिंह ने कहा था
Shekhar Chandra Mitra
सूनी बगिया हुई विरान ?
सूनी बगिया हुई विरान ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#गीत
#गीत
*Author प्रणय प्रभात*
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सिया राम विरह वेदना
सिया राम विरह वेदना
Er.Navaneet R Shandily
संदेश बिन विधा
संदेश बिन विधा
Mahender Singh
Loading...