Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

सोच~

सोच~

“शिक्षा ने ज्ञान जरूर दिया, मगर लोगों से सारे संस्कार और संस्कृति छीनकर ले गई।”

दिनेश एल० “जैहिंद”

Language: Hindi
261 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2315.पूर्णिका
2315.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नारी शक्ति का हो 🌹🙏सम्मान🙏
नारी शक्ति का हो 🌹🙏सम्मान🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
कवि दीपक बवेजा
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Harminder Kaur
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
Kirti Aphale
गूढ़ बात~
गूढ़ बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
दुनिया की हर वोली भाषा को मेरा नमस्कार 🙏🎉
दुनिया की हर वोली भाषा को मेरा नमस्कार 🙏🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी सोच मेरे तू l
मेरी सोच मेरे तू l
सेजल गोस्वामी
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
" बोलियाँ "
Dr. Kishan tandon kranti
गीत
गीत
Pankaj Bindas
स्नेह
स्नेह
Shashi Mahajan
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
नेताम आर सी
😢😢
😢😢
*प्रणय प्रभात*
मैं  गुल  बना  गुलशन  बना  गुलफाम   बना
मैं गुल बना गुलशन बना गुलफाम बना
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*गूगल को गुरु मानिए, इसका ज्ञान अथाह (कुंडलिया)*
*गूगल को गुरु मानिए, इसका ज्ञान अथाह (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गांधीजी की नीतियों के विरोधी थे ‘ सुभाष ’
गांधीजी की नीतियों के विरोधी थे ‘ सुभाष ’
कवि रमेशराज
सच तो यही हैं।
सच तो यही हैं।
Neeraj Agarwal
- आम मंजरी
- आम मंजरी
Madhu Shah
ज़िंदा हूं
ज़िंदा हूं
Sanjay ' शून्य'
हर पल
हर पल
Davina Amar Thakral
इंसानो की इस भीड़ में
इंसानो की इस भीड़ में
Dr fauzia Naseem shad
*हमारे कन्हैया*
*हमारे कन्हैया*
Dr. Vaishali Verma
// स्वर सम्राट मुकेश जन्म शती वर्ष //
// स्वर सम्राट मुकेश जन्म शती वर्ष //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शहरी हो जरूर तुम,
शहरी हो जरूर तुम,
Dr. Man Mohan Krishna
मन को मना लेना ही सही है
मन को मना लेना ही सही है
शेखर सिंह
ग़म कड़वे पर हैं दवा, पीकर करो इलाज़।
ग़म कड़वे पर हैं दवा, पीकर करो इलाज़।
आर.एस. 'प्रीतम'
This Love That Feels Right!
This Love That Feels Right!
R. H. SRIDEVI
गांव का दृश्य
गांव का दृश्य
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...