Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2016 · 1 min read

सोच समझ कर बोला कर राज़ न दिल के खोला कर

सोच समझ कर बोला कर
राज़ न दिल के खोला कर

इतनी सख़्ती ठीक नहीं
ख़ुद को थोड़ा पोला कर

सब तो एक न जैसे हैं
बोल न सबको भोला कर

दिल का हल्का भारीपन
एक नज़र में तोला कर

अंगारों की फसल उगा
बुझती राख टटोला कर

कुछ तो आग़ दिखाई दे
हर चिंगारी शोला कर

हर्फ़ हर्फ़ बारूद बना
गीत ग़ज़ल हथगोला कर

सीख कुचलना विषधर फन
मारा रोज़ सँपोला कर

राकेश दुबे “गुलशन”
10/07/2016
बरेली

3 Comments · 318 Views
You may also like:
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
पंजाबी गीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गुरु ईश्वर के रूप धरा पर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*शादी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मुख़ौटा_ओढ़कर
N.ksahu0007@writer
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पर्यावरण के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फ़र्ज़ पर अधिकार तेरा,
Satish Srijan
✍️गलती ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
तन्हाँ महफिल को सजाऊँ कैसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
आईना ज़िंदगी नहीं रहती
Dr fauzia Naseem shad
तम भरे मन में उजाला आज करके देख लेना!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
इश्क
Anamika Singh
✍️दहशत में है मजारे✍️
'अशांत' शेखर
मादक अखियों में
Dr. Sunita Singh
मकान जला है।
Taj Mohammad
बाल कहानी-पूजा और राधा
SHAMA PARVEEN
💐💐उनके दिल में...................💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वही तो प्यार होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
Abhishek Pandey Abhi
* मनवा क्युं दुखियारा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुकुट उतरेगा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
*"तिरंगा झंडा"*
Shashi kala vyas
“ यादों के सहारे ”
DrLakshman Jha Parimal
करप्शन के टॉवर ढह गए
Ram Krishan Rastogi
काल के चक्रों ने भी, ऐसे यथार्थ दिखाए हैं।
Manisha Manjari
जब हम छोटे से बच्चे थे।
लक्ष्मी सिंह
फिर भी तुम्हारे लिए
gurudeenverma198
प्यासा का शायर
Shekhar Chandra Mitra
मुलाकात
Buddha Prakash
Loading...