Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2016 · 1 min read

*सोच-विचार*

जीवन के हर पहलू पर करिए सोच-विचार
पथ है ये कांटों का तुम रहना होशियार
जग में तुम हर इक पग रखना सम्भल-सम्भल
फूलों सी है ज़िंदगी करो न इसको ख़ार
धर्मेन्द्र अरोड़ा

Language: Hindi
362 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिरनगांव की रियासत
हिरनगांव की रियासत
Prashant Tiwari
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
Manisha Manjari
जिन्दगी मे एक बेहतरीन व्यक्ति होने के लिए आप मे धैर्य की आवश
जिन्दगी मे एक बेहतरीन व्यक्ति होने के लिए आप मे धैर्य की आवश
पूर्वार्थ
हमेशा तेरी याद में
हमेशा तेरी याद में
Dr fauzia Naseem shad
कृष्ण भक्ति
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
पोथी- पुस्तक
पोथी- पुस्तक
Dr Nisha nandini Bhartiya
कौन सुने फरियाद
कौन सुने फरियाद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बड़ा ही हसीन होता है ये नन्हा बचपन
बड़ा ही हसीन होता है ये नन्हा बचपन
'अशांत' शेखर
दुनिया दिखावे पर मरती है , हम सादगी पर मरते हैं
दुनिया दिखावे पर मरती है , हम सादगी पर मरते हैं
कवि दीपक बवेजा
कृष्ण कन्हैया
कृष्ण कन्हैया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ये दूरियां मजबूरी नही,
ये दूरियां मजबूरी नही,
goutam shaw
Advice
Advice
Shyam Sundar Subramanian
*जहॉं पर हारना तय था, वहॉं हम जीत जाते हैं (हिंदी गजल)*
*जहॉं पर हारना तय था, वहॉं हम जीत जाते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
2934.*पूर्णिका*
2934.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
Anil chobisa
भोली बिटिया
भोली बिटिया
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
माँ का घर
माँ का घर
Pratibha Pandey
मुझे मिले हैं जो रहमत उसी की वो जाने।
मुझे मिले हैं जो रहमत उसी की वो जाने।
सत्य कुमार प्रेमी
क्यों हो गया अब हमसे खफ़ा
क्यों हो गया अब हमसे खफ़ा
gurudeenverma198
भारत मां की पुकार
भारत मां की पुकार
Shriyansh Gupta
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#जयंती_पर्व
#जयंती_पर्व
*Author प्रणय प्रभात*
बेटी पढ़ायें, बेटी बचायें
बेटी पढ़ायें, बेटी बचायें
Kanchan Khanna
"आदत"
Dr. Kishan tandon kranti
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
काश कभी ऐसा हो पाता
काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
shabina. Naaz
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...