Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

“सोच अपनी अपनी”

“सोच अपनी अपनी”
कोई सोचता कुछ कोई कुछ सोचता
सबका काम करने का तरीका अलग
हर कोई अपनी मर्जी से जीना चाहता
तभी तो कहते हैं सोच अपनी अपनी,
कोई रहता हमेशा अपनी ही अकड़ में
किसी किसी को लगे पंचायत ही प्यारी
किसी को करना काम पूर्ण ईमानदारी से
किसी किसी को हमेशा रसूदखोरी करनी,
किसी के मन भाए हरा भरा वातावरण
किसी किसी को बहुमंजिला इमारत भाई
किसी को लगे अपनी झोपड़ी स्वर्ग जैसी
राग अपना अपना ढपली अपनी अपनी,
किसी को खाना हमेशा चाट और पिज्जा
पूनिया को शाकाहारी भोजन ही है भाता
किसी किसी को कोल्ड ड्रिंक्स लगी अच्छी
मीनू की पहचान सादा खाना गरम पानी,
किसी को अच्छा लगे सिर्फ व्यापार करना
किसी किसी को भाए आलस में गोते खाना
राज चाहे हमेशा घूमता ही रहूं देश विदेश
हर किसी की होती है अलग अलग कहानी।

Language: Hindi
1 Like · 301 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
शाम उषा की लाली
शाम उषा की लाली
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ठोकरें कितनी खाई है राहों में कभी मत पूछना
ठोकरें कितनी खाई है राहों में कभी मत पूछना
कवि दीपक बवेजा
आगमन राम का सुनकर फिर से असुरों ने उत्पात किया।
आगमन राम का सुनकर फिर से असुरों ने उत्पात किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
वक्त गुजर जायेगा
वक्त गुजर जायेगा
Sonu sugandh
आज भगवान का बनाया हुआ
आज भगवान का बनाया हुआ
प्रेमदास वसु सुरेखा
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के अन्तर्विरोध
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के अन्तर्विरोध
कवि रमेशराज
"झाड़ू"
Dr. Kishan tandon kranti
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2554.पूर्णिका
2554.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हो मापनी, मफ़्हूम, रब्त तब कहो ग़ज़ल।
हो मापनी, मफ़्हूम, रब्त तब कहो ग़ज़ल।
सत्य कुमार प्रेमी
शव शरीर
शव शरीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कृपा करें त्रिपुरारी
कृपा करें त्रिपुरारी
Satish Srijan
■ बोली की ग़ज़ल .....
■ बोली की ग़ज़ल .....
*Author प्रणय प्रभात*
சூழ்நிலை சிந்தனை
சூழ்நிலை சிந்தனை
Shyam Sundar Subramanian
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
Sapna Arora
थे गुर्जर-प्रतिहार के, सम्राट मिहिर भोज
थे गुर्जर-प्रतिहार के, सम्राट मिहिर भोज
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*हमारे विवाह की रूबी जयंती*
*हमारे विवाह की रूबी जयंती*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-427💐
💐प्रेम कौतुक-427💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
Phool gufran
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज का
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज का
Dr fauzia Naseem shad
Adhere kone ko roshan karke
Adhere kone ko roshan karke
Sakshi Tripathi
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
Mahendra Narayan
तुम्हारी खूब़सूरती क़ी दिन रात तारीफ क़रता हूं मैं....
तुम्हारी खूब़सूरती क़ी दिन रात तारीफ क़रता हूं मैं....
Swara Kumari arya
"सन्त रविदास जयन्ती" 24/02/2024 पर विशेष ...
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जब तक प्रश्न को तुम ठीक से समझ नहीं पाओगे तब तक तुम्हारी बुद
जब तक प्रश्न को तुम ठीक से समझ नहीं पाओगे तब तक तुम्हारी बुद
Rj Anand Prajapati
कर्ज का बिल
कर्ज का बिल
Buddha Prakash
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
झील किनारे
झील किनारे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
माँ काली
माँ काली
Sidhartha Mishra
Loading...