Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2023 · 1 min read

सोचो यदि रंगों में ऐसी रंगत नहीं होती

सोचो यदि रंगों में ऐसी रंगत नहीं होती
तो कुदरत की दुनिया जन्नत नहीं होती।
रंगों की रंगत में है जीवन का फलसफा
प्यार के रंग में रंग जाओ एक दफा।
खेम किरण सैनी

379 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डॉ अरुण कुमार शास्त्री / drarunkumarshastri
डॉ अरुण कुमार शास्त्री / drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राम मंदिर
राम मंदिर
Sanjay ' शून्य'
कड़वा है मगर सच है
कड़वा है मगर सच है
Adha Deshwal
दिल की धड़कन भी तुम सदा भी हो । हो मेरे साथ तुम जुदा भी हो ।
दिल की धड़कन भी तुम सदा भी हो । हो मेरे साथ तुम जुदा भी हो ।
Neelam Sharma
■ आज का आखिरी शेर।
■ आज का आखिरी शेर।
*प्रणय प्रभात*
रिश्ते का अहसास
रिश्ते का अहसास
Paras Nath Jha
हर परिवार है तंग
हर परिवार है तंग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सच तो फूल होते हैं।
सच तो फूल होते हैं।
Neeraj Agarwal
घर के राजदुलारे युवा।
घर के राजदुलारे युवा।
Kuldeep mishra (KD)
कुछ नया लिखना है आज
कुछ नया लिखना है आज
करन ''केसरा''
वो लड़का
वो लड़का
bhandari lokesh
ज़िंदगी चलती है
ज़िंदगी चलती है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
Dr. Narendra Valmiki
*यहाँ पर आजकल होती हैं ,बस बाजार की बातें ( हिंदी गजल/गीतिक
*यहाँ पर आजकल होती हैं ,बस बाजार की बातें ( हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
जाने क्या छुटा रहा मुझसे
जाने क्या छुटा रहा मुझसे
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
3264.*पूर्णिका*
3264.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खुद से जंग जीतना है ।
खुद से जंग जीतना है ।
Ashwini sharma
नेता जी
नेता जी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
दिल की रहगुजर
दिल की रहगुजर
Dr Mukesh 'Aseemit'
Success Story -3
Success Story -3
Piyush Goel
दुआ नहीं होना
दुआ नहीं होना
Dr fauzia Naseem shad
गलत रास्ते, गलत रिश्ते, गलत परिस्तिथिया और गलत अनुभव जरूरी ह
गलत रास्ते, गलत रिश्ते, गलत परिस्तिथिया और गलत अनुभव जरूरी ह
पूर्वार्थ
अपने ही  में उलझती जा रही हूँ,
अपने ही में उलझती जा रही हूँ,
Davina Amar Thakral
वो छोटी सी खिड़की- अमूल्य रतन
वो छोटी सी खिड़की- अमूल्य रतन
Amulyaa Ratan
ऑफिसियल रिलेशन
ऑफिसियल रिलेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
Shweta Soni
दाद ओ तहसीन ओ सताइश न पज़ीराई को
दाद ओ तहसीन ओ सताइश न पज़ीराई को
Anis Shah
राम को कैसे जाना जा सकता है।
राम को कैसे जाना जा सकता है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
केशव
केशव
Dinesh Kumar Gangwar
देश-प्रेम
देश-प्रेम
कवि अनिल कुमार पँचोली
Loading...