Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2017 · 1 min read

सोचो जो बेटी ना होती

????
सोचो जो बेटी ना होती,
तो ये दुनिया कैसी होती?
धरती के अन्दर जो
अंकुर ना फूटती,
तो क्या धरती पर जीवन होती?
सोचो जो बेटी ना होती……

ना ही ये सुन्दर प्रकृति होती।
ना सागर में सीपी होती
ना ही सीप में मोती होती।
ना ही जीवन ज्योति होती।
सोचो जो बेटी ना होती…..

ना तुम होते,ना हम होते,
ना ये रिश्ते-नाते होते।
ना ही अपनेपन की बातें होती।
ना ही प्रकृति सुन्दर रंग समेटे होती।
सोचो जो बेटी ना होती….

ना ही प्यार,त्याग की भावना होती।
ना ही बरसात करूणा की होती।
ना ये संसार सुन्दर इतनी होती।
सोचो जो बेटी ना होती..
????—लक्ष्मी सिंह?☺

1 Like · 1 Comment · 491 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
जो सच में प्रेम करते हैं,
जो सच में प्रेम करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
यदि आप अपनी असफलता से संतुष्ट हैं
यदि आप अपनी असफलता से संतुष्ट हैं
Paras Nath Jha
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
बदी करने वाले भी
बदी करने वाले भी
Satish Srijan
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
Ravi Ghayal
समय संवाद को लिखकर कभी बदला नहीं करता
समय संवाद को लिखकर कभी बदला नहीं करता
Shweta Soni
उड़ान
उड़ान
Saraswati Bajpai
"शब्दकोश में शब्द नहीं हैं, इसका वर्णन रहने दो"
Kumar Akhilesh
* जिंदगी में कब मिला,चाहा हुआ हर बार है【मुक्तक】*
* जिंदगी में कब मिला,चाहा हुआ हर बार है【मुक्तक】*
Ravi Prakash
अपनी जिंदगी मे कुछ इस कदर मदहोश है हम,
अपनी जिंदगी मे कुछ इस कदर मदहोश है हम,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
आज खुश हे तु इतना, तेरी खुशियों में
आज खुश हे तु इतना, तेरी खुशियों में
Swami Ganganiya
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
सूरज दादा ड्यूटी पर
सूरज दादा ड्यूटी पर
डॉ. शिव लहरी
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
Phool gufran
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
गुप्तरत्न
अपने साथ चलें तो जिंदगी रंगीन लगती है
अपने साथ चलें तो जिंदगी रंगीन लगती है
VINOD CHAUHAN
"दीपावाली का फटाका"
Radhakishan R. Mundhra
*
*"तुलसी मैया"*
Shashi kala vyas
कल की फ़िक्र को
कल की फ़िक्र को
Dr fauzia Naseem shad
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
💐अज्ञात के प्रति-56💐
💐अज्ञात के प्रति-56💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कौन है वो .....
कौन है वो .....
sushil sarna
*चिंता चिता समान है*
*चिंता चिता समान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जितनी शिद्दत से
जितनी शिद्दत से
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन एक संगीत है | इसे जीने की धुन जितनी मधुर होगी , जिन्दगी
जीवन एक संगीत है | इसे जीने की धुन जितनी मधुर होगी , जिन्दगी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
Anil chobisa
कृषक
कृषक
साहिल
कभी ना अपने लिए जीया मैं…..
कभी ना अपने लिए जीया मैं…..
AVINASH (Avi...) MEHRA
, गुज़रा इक ज़माना
, गुज़रा इक ज़माना
Surinder blackpen
Loading...