Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2018 · 3 min read

फीका त्योहार !

सुबह सुबह सुदूर पहाड़ियों पर फैला श्वेत बर्फ को निहारते हुवें कश्मीर के सीमावर्ती इलाके में तैनात फौजी पांडेय जी कहवा की चुस्कियां लगा ही रहे थे कि पास पड़े फोन ने उनका ध्यान आकर्षित किया!
आज होली जो है, घर से दूर सही पर कोई अपनों के दिल से कैसे दूर हो, सुबह से बधाइयों का तांता लगा था, इस बार फोन पर उनकी पत्नी किरण थी, कुछ शिकवे शिकायत के बाद मनुहार शुरू ही हुई कि अचानक गोलियों की आवाज़ से घाटी दहल उठी, जिज्ञासा और कौतूहल के बीच उसे छोड़ पांडेय जी संतरी की तरफ दौड़ पड़े! पता चला पड़ोसियों ने होली को दीपावली में तब्दील कर दिया है!!
उधर ऊहापोह की स्थिति में पांडेय जी की वीबी किरण भुनभुनाते हुवें अपने घरेलू काम में लग गयी, जैसे उसके लिए ये रोज की बात हो, हो भी क्यों न कभी फुर्सत में ढंग से बात हो तब न, हमेशा का ही तो है ये, कभी तो समय निकालते लेकिन नहीं आज त्योहार में जहां लोग अपनी वीबी बच्चों के साथ आनन्दित है और वो, नौकरी नहीं सौतन! वैसे भी आज रोज से ज्यादा काम! माता जी भी तो पंडित जी को खिलाने को बुलाने गयी जैसे आज ही खिलाना जरूरी हो!!
पंडित जी को खिला कर अभी निर्वित्त हुई नहीं की बेटे अंश की ज़िद, उसे भी तो पिचकारी चाहिए और वो भी बंदुक वाला, फौजी का बेटा जो ठहरा, पापा आये होते तो पता नहीं क्या क्या खिलौने लाते! पंडित जी भी तो खाते हुए सही बताए, वो आये होते तो खीर फीका नहीं होता!!
अभी दोपहर हुआ नहीं की दरवाज़े पर होली गाने वाले भी टपक पड़े, उनकी होली बिना बख्शिश लिए पूरी भी हो तो कैसे, वो भी इस फौजी के घर से, अभी पिछली बार वो छुट्टी पर थे तो बख्शिश के साथ बोतल भी जो मिला था! अभी तो शाम तलक!!
क्या अजीब सुबह के बधाई व रंग अभी उतरे नहीं की अबीर का दौर शुरू हो चला, आज सांस लेने की भी फुरसत नहीं मिली, इसी उधेड़बुन में जैसे ही टेलिविजन खोली की हाँथों के बर्तन छन्नाक से छूट कर ज़मीन पर गिर पड़ा और एक आह निकली जैसे कलेजा मुँह को आ गया हो, उधर माता जी की भी चीख निकल गयी कारण अंदर के कमरे से बैठक में आती हुई टेलीविजन की आवाज़ शनैः शनैः तीव्र होने लगी!!
-आज का मुख्य समाचार….
-आज फिर भारत पाक सीमा पर पाकिस्तान ने किया सीज फायर का उल्लंघन!
-सुबह से ही पाकिस्तान के तरफ से भारतीय पोस्टों पर भारी बम बारी!
-भारतीय जवानों ने भी की जवाबी कार्रवाई!
-दो भारतीय जवान शहीद………
घटनाक्रम से लगभग ०३ महीने बीत चुके आज माता जी के पाँव ज़मीन पर ही नहीं पड़ रहें, सुंदरकांड का पाठ जो रखवाई हैं, उनका त्योहार तो आज ही है! फौजी बेटा जो आज छुट्टी आ रहा है, वो भी पूरे ६० दिन की!!
उस दिन टेलीविजन पर खबर सुन के जो घर में सन्नाटा फैल गया था, अगर फोन नहीं आया होता तो बूढ़े पिताजी का क्या होता चिंताग्रस्त उनकी तो बोली ही बंद हो गयी थी!!
६० दिन तो यूँ निकल गए शुक्र रहा कि अंश का २३ अगस्त के जन्मदिन मना पाएं, नहीं तो उसकी शिकायतों का पिटारा कहाँ खाली होता! अब अगली छुट्टी का क्या भरोसा कब मिले, त्योहारों पर तो बिल्कुल भी नहीं!!
वो क्या हैं कि पिछली दीपावली में उनके पलटन रिसाला परिवार के बीच प्रधानमंत्री जी जो आये थे दीपावली मनाने और सारे रिसलियनों का मनोबल बढ़ाने, तो हो सकता है कि इस बार भी कोई न कोई आये उन फौजियों का हिम्मत बढ़ाने!!
इस बार छुट्टी खत्म होने के बाद फौज़ी पांडेय जी घर का बना ठेकुआ और लड्डू ले जाना नहीं भूले! अपने उन साथियों के लिए जो उनके साथ रहते हैं और जिनके बिना उनके घरवालों का भी त्योहार, ”फीका त्योहार” रहता हैं !!

@कथनांक :-
©® पांडेय चिदानंद “चिद्रूप”
(सर्वाधिकार सुरक्षित ०९/०२/२०१८)

संक्षिप्त परिचय :-
नाम:- पाण्डेय चिदानन्द
साहित्यिक उपनाम :- “चिद्रूप”
शिक्षा:- स्नातक (हिंदी संकाय)
व्यवसाय:- नौकरी (भारतीय सेना)

स्थाई पता :-
नाम :- पाण्डेय चिदानन्द “चिद्रूप”
सुपुत्र :- श्री सुर्यनाथ पांडेय
“अकवि” (कवि जी)
ग्राम+पोस्ट :- रेवतीपुर,
बेसहन पट्टी (देवी स्थान)
ज़िला :- गाज़ीपुर
उत्तरप्रदेश
पिन :- २३२३२८

Language: Hindi
12 Likes · 1 Comment · 726 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"पापा की परी"
Yogendra Chaturwedi
जिंदगी की बेसबब रफ्तार में।
जिंदगी की बेसबब रफ्तार में।
सत्य कुमार प्रेमी
कब भोर हुई कब सांझ ढली
कब भोर हुई कब सांझ ढली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
Neelam Sharma
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सगीर गजल
सगीर गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आपके स्वभाव की
आपके स्वभाव की
Dr fauzia Naseem shad
नमन माँ गंग !पावन
नमन माँ गंग !पावन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"चांद पे तिरंगा"
राकेश चौरसिया
★मृदा में मेरी आस ★
★मृदा में मेरी आस ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
अम्बेडकरवादी हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
अम्बेडकरवादी हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बस्ता
बस्ता
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*जन्मजात कवि थे श्री बृजभूषण सिंह गौतम अनुराग*
*जन्मजात कवि थे श्री बृजभूषण सिंह गौतम अनुराग*
Ravi Prakash
नीरोगी काया
नीरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
■ लघुकथा
■ लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
ਉਸਦੀ ਮਿਹਨਤ
ਉਸਦੀ ਮਿਹਨਤ
विनोद सिल्ला
"ऐसा करें कुछ"
Dr. Kishan tandon kranti
छायावाद के गीतिकाव्य (पुस्तक समीक्षा)
छायावाद के गीतिकाव्य (पुस्तक समीक्षा)
दुष्यन्त 'बाबा'
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
Dr. Narendra Valmiki
विश्व कप
विश्व कप
Pratibha Pandey
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
Acharya Rama Nand Mandal
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
surenderpal vaidya
परोपकार
परोपकार
Neeraj Agarwal
💐Prodigy Love-1💐
💐Prodigy Love-1💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आलेख - मित्रता की नींव
आलेख - मित्रता की नींव
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
माॅर्डन आशिक
माॅर्डन आशिक
Kanchan Khanna
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
Tufan ki  pahle ki khamoshi ka andesha mujhe hone hi laga th
Tufan ki pahle ki khamoshi ka andesha mujhe hone hi laga th
Sakshi Tripathi
Loading...