Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2022 · 1 min read

* सूर्य स्तुति *

ड़ा अरुण कुमार शास्त्री
” एक अबोध बालक _ अरुण अतृप्त ”

* सूर्य स्तुति *

तेरी वजह से सृष्टि के
संसाधन सब है मिलते
तेरी वजह से प्रकृति में
फूल ही फूल हैं खिलते
सूरज बाबा सूरज बाबा
तू सदा मेरे साथ रहे
मेरे सर पर सदा तेरा
हाथ रहे सूरज बाबा तू
सदा मेरे साथ रहे
सूरज बाबा तू
सदा मेरे साथ रहे
तेरे कारण जग सन्चालित
तेरे दम से जीव हैं जीवित
वायु के आवागमन का
व्यवहार बना है तुमसे नियमित
तुम ही नियमन तुम ही नियंता
तुम ही सबके पालन कर्ता
तेरी वजह से सृष्टि के
संसाधन सब है मिलते
तेरी वजह से प्रकृति में
फूल ही फूल हैं खिलते
सूरज बाबा सूरज बाबा
तू सदा मेरे साथ रहे
हम प्राणी तो निपट अबोधी
तुम हो सब वेदों के बोधि
अनपढ़ औघड़ अभिमानी हम
तुम से ही प्रचलित नीति नियम सब
तुम हो तो समय चक्र है
तुम हो तो ऋतु चक्र है
दिन का ढलना दिन का उगना
बिन तेरे ये सब अनघट सपना
तेरी वजह से सृष्टि के
संसाधन सब है मिलते
तेरी वजह से प्रकृति में
फूल ही फूल हैं खिलते
सूरज बाबा सूरज बाबा
तू सदा मेरे साथ रहे
मेरे सर पर सदा तेरा
हाथ रहे सूरज बाबा तू
हमेशा मेरे साथ रहे
सूरज बाबा तू
हमेशा मेरे साथ रहे

1 Like · 2 Comments · 223 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मात-पिता केँ
मात-पिता केँ
DrLakshman Jha Parimal
तेरी खुशबू
तेरी खुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जग की आद्या शक्ति हे ,माता तुम्हें प्रणाम( कुंडलिया )
जग की आद्या शक्ति हे ,माता तुम्हें प्रणाम( कुंडलिया )
Ravi Prakash
क्रिकेटफैन फैमिली
क्रिकेटफैन फैमिली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"धीरे-धीरे"
Dr. Kishan tandon kranti
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
कवि रमेशराज
बीते कल की रील
बीते कल की रील
Sandeep Pande
कुछ लोग
कुछ लोग
Shweta Soni
एक एहसास
एक एहसास
Dr fauzia Naseem shad
घर घर रंग बरसे
घर घर रंग बरसे
Rajesh Tiwari
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
शिछा-दोष
शिछा-दोष
Bodhisatva kastooriya
इक शे'र
इक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
Kshma Urmila
चाय दिवस
चाय दिवस
Dr Archana Gupta
आसां  है  चाहना  पाना मुमकिन नहीं !
आसां है चाहना पाना मुमकिन नहीं !
Sushmita Singh
कैसे यह अनुबंध हैं, कैसे यह संबंध ।
कैसे यह अनुबंध हैं, कैसे यह संबंध ।
sushil sarna
मैं बारिश में तर था
मैं बारिश में तर था
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
Buddha Prakash
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
"तरक्कियों की दौड़ में उसी का जोर चल गया,
शेखर सिंह
नारा पंजाबियत का, बादल का अंदाज़
नारा पंजाबियत का, बादल का अंदाज़
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2545.पूर्णिका
2545.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सैनिक
सैनिक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बस यूं ही
बस यूं ही
MSW Sunil SainiCENA
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मेरा और उसका अब रिश्ता ना पूछो।
मेरा और उसका अब रिश्ता ना पूछो।
शिव प्रताप लोधी
स्मृतियों की चिन्दियाँ
स्मृतियों की चिन्दियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...