Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)

अरे ! भाई सूरज
समझ,सोच,गुन ।

अजब तेरी भक्ति,
गजब तेरी शक्ति ।
मगर यार मेरी
जरा टेर सुन ।

अजब तेरी किरणें,
गजब तेज उनमें ।
मगर यार धरती
को ऐंसे न घुन ।

कि सत ताप तेरा,
असत पाप मेरा ।
मगर यार फूलों
में काँटे न बुन ।

तेरे हाथ जीवन,
मेरे हाथ तन-मन ।
मगर मौत उसमें
से अब तू न चुन ।

अरे ! भाई सूरज
समझ,सोच,गुन ।

— ईश्वर दयाल गोस्वामी

5 Likes · 8 Comments · 72 Views
You may also like:
नए जूते
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग ५]
Anamika Singh
उम्रें गुज़र गई हैं।
Taj Mohammad
*श्री राजेंद्र कुमार शर्मा का निधन : एक युग का...
Ravi Prakash
शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
महँगाई
आकाश महेशपुरी
यादें आती हैं
Krishan Singh
जाने कहां वो दिन गए फसलें बहार के
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
तेरा नसीब बना हूं।
Taj Mohammad
"बेरोजगारी"
पंकज कुमार "कर्ण"
【29】!!*!! करवाचौथ !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
अल्फाज़ ए ताज भाग-5
Taj Mohammad
लिखता जा रहा है वह
gurudeenverma198
खुदा बना दे।
Taj Mohammad
✍️वो उड़ते रहता है✍️
"अशांत" शेखर
सट्टेबाज़ों से
Suraj Kushwaha
ग़र वो है बेवफ़ा बेवफ़ा ही सही
Mahesh Ojha
सुनो ! हे राम ! मैं तुम्हारा परित्याग करती हूँ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
तीन शर्त"""'
Prabhavari Jha
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️ये केवल संकलन है,पाठकों के लिये प्रस्तुत
"अशांत" शेखर
बद्दुआ।
Taj Mohammad
मंजूषा बरवै छंदों की
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
इश्क़ में क्या हार-जीत
N.ksahu0007@writer
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
दुलहिन परिक्रमा
मनोज कर्ण
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...