Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

सूखे पत्तों से भी प्यार लूंगा मैं

सूखे पत्तों से भी प्यार लूंगा मैं
हर मौसम को संभाल लूंगा मैं

अपना साथ ना खड़ा हुआ तो
किसी का क्या बिगाड़ लूंगा मैं!

कवि दीपक सरल

1 Like · 343 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी और के संग ऐसा मत करना
किसी और के संग ऐसा मत करना
gurudeenverma198
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आसानी से कोई चीज मिल जाएं
आसानी से कोई चीज मिल जाएं
शेखर सिंह
बाल कविता: हाथी की दावत
बाल कविता: हाथी की दावत
Rajesh Kumar Arjun
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
Raju Gajbhiye
बिन बोले सब कुछ बोलती हैं आँखें,
बिन बोले सब कुछ बोलती हैं आँखें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
तीन मुक्तकों से संरचित रमेशराज की एक तेवरी
तीन मुक्तकों से संरचित रमेशराज की एक तेवरी
कवि रमेशराज
वीर जवान --
वीर जवान --
Seema Garg
अपने अपने कटघरे हैं
अपने अपने कटघरे हैं
Shivkumar Bilagrami
अवधी स्वागत गीत
अवधी स्वागत गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
*तू कौन*
*तू कौन*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
....एक झलक....
....एक झलक....
Naushaba Suriya
चलो मनाएं नया साल... मगर किसलिए?
चलो मनाएं नया साल... मगर किसलिए?
Rachana
"जिद"
Dr. Kishan tandon kranti
उम्मीद
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
श्री रामप्रकाश सर्राफ
श्री रामप्रकाश सर्राफ
Ravi Prakash
सजावट की
सजावट की
sushil sarna
कर्त्तव्य
कर्त्तव्य
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2445.पूर्णिका
2445.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अनकहे अल्फाज़
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कहां बिखर जाती है
कहां बिखर जाती है
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
Harminder Kaur
शिक्षा होने से खुद को  स्वतंत्र और पैसा होने से खुद को
शिक्षा होने से खुद को स्वतंत्र और पैसा होने से खुद को
पूर्वार्थ
चाँद और इन्सान
चाँद और इन्सान
Kanchan Khanna
एक खाली बर्तन,
एक खाली बर्तन,
नेताम आर सी
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
'अशांत' शेखर
🙅हस्तिनापुर🙅
🙅हस्तिनापुर🙅
*प्रणय प्रभात*
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
shabina. Naaz
Loading...