Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2022 · 1 min read

सुर और शब्द

जो मेरे प्यार के गीतों को
तेरी आवाज़ मिल जाती!
तो कई सुनहरे सपनों को
ऊंची परवाज़ मिल जाती!!
फिर वक़्त की कोई आंधी
कभी इसे नहीं हिला पाती!
सुर और शब्द के रिश्ते को
गहरी बुनियाद मिल जाती!!
#Lyricist #poet #Bollywood #Geetkar #Romantic #rebel #Shayar #love #कवि #रचयिता

Language: Hindi
172 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तू भी तो
तू भी तो
gurudeenverma198
नई शिक्षा
नई शिक्षा
अंजनीत निज्जर
मौत के डर से सहमी-सहमी
मौत के डर से सहमी-सहमी
VINOD CHAUHAN
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
மழையின் சத்தத்தில்
மழையின் சத்தத்தில்
Otteri Selvakumar
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
विडम्बना और समझना
विडम्बना और समझना
Seema gupta,Alwar
" प्यार के रंग" (मुक्तक छंद काव्य)
Pushpraj Anant
" आज़ का आदमी "
Chunnu Lal Gupta
उगते हुए सूरज और ढलते हुए सूरज मैं अंतर सिर्फ समय का होता है
उगते हुए सूरज और ढलते हुए सूरज मैं अंतर सिर्फ समय का होता है
Annu Gurjar
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
Sûrëkhâ Rãthí
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
👌परिभाषा👌
👌परिभाषा👌
*Author प्रणय प्रभात*
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
shabina. Naaz
निशान
निशान
Saraswati Bajpai
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
Phool gufran
आसमान
आसमान
Dhirendra Singh
कविता
कविता
Alka Gupta
आप हो
आप हो
Dr.Pratibha Prakash
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कौन जात हो भाई / BACHCHA LAL ’UNMESH’
कौन जात हो भाई / BACHCHA LAL ’UNMESH’
Dr MusafiR BaithA
फकीरी
फकीरी
Sanjay ' शून्य'
"कारवाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
ओ लहर बहती रहो …
ओ लहर बहती रहो …
Rekha Drolia
विरही
विरही
लक्ष्मी सिंह
मैं
मैं "आदित्य" सुबह की धूप लेकर चल रहा हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
बारिश की बूंदों ने।
बारिश की बूंदों ने।
Taj Mohammad
I can’t be doing this again,
I can’t be doing this again,
पूर्वार्थ
मेरी भी कहानी कुछ अजीब है....!
मेरी भी कहानी कुछ अजीब है....!
singh kunwar sarvendra vikram
बिन फले तो
बिन फले तो
surenderpal vaidya
Loading...