Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

*गुलाब *…….सुर्ख लाल कली मैं गुलाब की।

**गुलाब**
———
सुर्ख लाल कली मैं गुलाब की।
खिली बाग में,नहीं कोई ख्वाब की।
आशिक की खुशी में बसती हूँ ,
बाँटते प्यार मुझसे बेहिसाब की।
@पूनम झा|कोटा ,राजस्थान |

146 Views
You may also like:
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अजनबी
Dr. Alpa H. Amin
फिजूल।
Taj Mohammad
ये जिंदगी ना हंस रही है।
Taj Mohammad
नई तकदीर
मनोज कर्ण
स्वर्गीय श्री पुष्पेंद्र वर्णवाल जी का एक पत्र : मधुर...
Ravi Prakash
" हाथी गांव "
Dr Meenu Poonia
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
डाक्टर भी नहीं दवा देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
ताला-चाबी
Buddha Prakash
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
जीवन
Mahendra Narayan
जीवन की सौगात "पापा"
Dr. Alpa H. Amin
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बालू का पसीना "
Dr Meenu Poonia
कविता क्या है ?
Ram Krishan Rastogi
लॉकडाउन गीतिका
Ravi Prakash
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD KUMAR CHAUHAN
My dear Mother.
Taj Mohammad
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
श्री राधा मोहन चतुर्वेदी
Ravi Prakash
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
अभिलाषा
Anamika Singh
मंजिल
AMRESH KUMAR VERMA
*!* हट्टे - कट्टे चट्टे - बट्टे *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पिता
Anis Shah
Loading...