Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 2 min read

सुमति

सुमति

बहुत पुरानी बात है। किसी गाँव में एक लड़की रहती थी। नाम था उसका – सुमति। वह बहुत सुंदर तथा बुद्धिमान लड़की थी। जब वह आठ वर्ष की थी, तब उसकी माँ की मौत हो गई। बाद में उसके पिताजी ने दूसरी शादी कर ली। नई माँ ने आते ही सुमति को सताना शुरू कर दिया। घर के सारे काम कराने के बावजूद उसे ठीक से खाना नहीं देती। खाना माँगने पर वह मारती भी थी।
एक दिन बाद सुमति अपने पिताजी के साथ जंगल लकड़ी बीनने गई। वहाँ पिताजी ने कहा, ‘‘बेटी, तुम यहीं ठहरो। मैं जरा तालाब से पानी पीकर आता हूँ।’’
दोपहर से शाम हो गई, पर पिताजी नहीं आए। तभी उसने देखा, कि एक कबूतर कुछ दूरी पर फड़फड़ा कर गिरा।
वह दौड़कर उसके नजदीक पहुँची। उसे तीर लगा हुआ था। वह सावधानीपूर्वक उसे निकालती है। तभी उस रियासत के राजा और दो सैनिकों ने आकर उसे घेर लिया।
राजा ने कहा, ‘‘कबूतर मेरा है, इसे मुझे दे दो।’’
सुमति बोली, ‘‘क्या यह इसलिए आपका है कि इसे आपने तीर मारा है ?’’
सुमति की बात सुनकर राजा दांग रह गए। राजा ने कहा, “लड़की, तुम्हें पता भी है, मैं इस राज्य का राजा हूँ।
सुमति ने कहा, “तो क्या आपको किसी को भी बेवजह मारने का हक़ है ? क्या बिगाड़ा था इस बेजुबान पंछी ने आपका या आपके राज्य का ?”
राजा सोच में पड़ गए। वे सुमति की बातों से बहुत प्रभावित हुए। उन्होंने पूछा कि वह इस घने जंगल में अकेली क्या कर रही है ?
सुमति ने बताया कि वह अपने पिताजी का इंतजार कर रही है।
राजा ने उससे घर के सदस्यों के बारे में पूछा तो सुमति ने सब कुछ सच-सच बता दिया।
उन्हें वास्तविकता समझते देर नहीं लगी। फिर भी राजा ने अपने सैनिकों को उसके पिताजी को खोजने के लिए भेजा।
अंधेरा घिर आया पर जब वह नहीं मिला तो सुमति के बताए अनुसार राजा और उसके सैनिक उसके घर गए। सैनिकों को देखकर देखकर दोनों डर गए। वे राजा के पैरों में गिरकर माफी माँगने लगे।
राजा के सुमति गिड़गिड़ाने लगी, ‘‘महाराज, मेरे माता-पिता को माफ कर दीजिए। उन्हें मत पकड़िए ! मैं अनाथ हो जाऊँगी।’’
राजा सोच में पड़ गए। बोले, ‘‘सैनिकों, इन्हें छोड़ दो और सुमति, आज से तुम यहाँ नहीं, मेरे राजमहल में रहोगी। वहाँ तुम्हारे ही उम्र की हमारी इकलौती बेटी है, उसकी कोई सखी-सहेली नहीं हैं। तुम उसके साथ रहोगी हमारी दूसरी बेटी बनकर।’’
अब सुमति राजमहल में सुख से रहने लगी।
-डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
116 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सफर 👣जिंदगी का
सफर 👣जिंदगी का
डॉ० रोहित कौशिक
सार्थक जीवन
सार्थक जीवन
Shyam Sundar Subramanian
आत्मघाती हमला
आत्मघाती हमला
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
क्यों कहते हो प्रवाह नहीं है
क्यों कहते हो प्रवाह नहीं है
Suryakant Dwivedi
*घूॅंघट सिर से कब हटा, रहती इसकी ओट (कुंडलिया)*
*घूॅंघट सिर से कब हटा, रहती इसकी ओट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
😜 बचपन की याद 😜
😜 बचपन की याद 😜
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन एक गुलदस्ता ..... (मुक्तक)
जीवन एक गुलदस्ता ..... (मुक्तक)
Kavita Chouhan
नए सफर पर चलते है।
नए सफर पर चलते है।
Taj Mohammad
कभी न दिखावे का तुम दान करना
कभी न दिखावे का तुम दान करना
Dr fauzia Naseem shad
वृक्ष धरा की धरोहर है
वृक्ष धरा की धरोहर है
Neeraj Agarwal
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
goutam shaw
अगर कोई अच्छा खासा अवगुण है तो लोगों की उम्मीद होगी आप उस अव
अगर कोई अच्छा खासा अवगुण है तो लोगों की उम्मीद होगी आप उस अव
Dr. Rajeev Jain
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
नज़्म
नज़्म
Shiva Awasthi
2353.पूर्णिका
2353.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पानी से पानी पर लिखना
पानी से पानी पर लिखना
Ramswaroop Dinkar
"ऐसा है अपना रिश्ता "
Yogendra Chaturwedi
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
The_dk_poetry
वो साँसों की गर्मियाँ,
वो साँसों की गर्मियाँ,
sushil sarna
💐प्रेम कौतुक-484💐
💐प्रेम कौतुक-484💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीवन मर्म
जीवन मर्म
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"प्यार की नज़र से"
Dr. Kishan tandon kranti
अगर आपके पैकेट में पैसा हो तो दोस्ती और रिश्तेदारी ये दोनों
अगर आपके पैकेट में पैसा हो तो दोस्ती और रिश्तेदारी ये दोनों
Dr. Man Mohan Krishna
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
Anil chobisa
पशुओं के दूध का मनुष्य द्वारा उपयोग अत्याचार है
पशुओं के दूध का मनुष्य द्वारा उपयोग अत्याचार है
Dr MusafiR BaithA
बस तेरे हुस्न के चर्चे वो सुबो कार बहुत हैं ।
बस तेरे हुस्न के चर्चे वो सुबो कार बहुत हैं ।
Phool gufran
Loading...