Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2017 · 1 min read

सुबह सुहानी

किताबों मे खो जायेगी
इक दिन मेरी कहानी
घड़ियों की रफ्तार मे
खो जायेगी मेरी जवानी ।

क्यूं न फिर मै
अरमानो को जाम पिला दं
जब तक है ये रात रूहानी
ख्वाबों को मै पंख लगा दूं
जब तक है ये सुबह सुहानी ।

यादों को मै अमर बना दूं
जाने कब हो मेरी रवानी
टुकड़े टुकड़े कर दूं
पैरों की जंजीर पुरानी ।

तूफानो को मै शान्त करा दूं
जब तक है मद मस्त जवानी
पहाड़ों को मै राई बना दूं
चाहे मिट जाये मेरी निशानी ।।

राज विग

Language: Hindi
319 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम पथिक
प्रेम पथिक
Aman Kumar Holy
दोहा
दोहा
प्रीतम श्रावस्तवी
दोहा त्रयी. . . . शीत
दोहा त्रयी. . . . शीत
sushil sarna
ग़लत समय पर
ग़लत समय पर
*Author प्रणय प्रभात*
*शीत वसंत*
*शीत वसंत*
Nishant prakhar
होने को अब जीवन की है शाम।
होने को अब जीवन की है शाम।
Anil Mishra Prahari
उनकी महफ़िल में मेरी हालात-ए-जिक्र होने लगी
उनकी महफ़िल में मेरी हालात-ए-जिक्र होने लगी
'अशांत' शेखर
मन काशी मन द्वारिका,मन मथुरा मन कुंभ।
मन काशी मन द्वारिका,मन मथुरा मन कुंभ।
विमला महरिया मौज
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
Rj Anand Prajapati
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
उपदेश से तृप्त किया ।
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
सुकून
सुकून
अखिलेश 'अखिल'
योग दिवस पर
योग दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
खुद को इंसान
खुद को इंसान
Dr fauzia Naseem shad
दूसरों की आलोचना
दूसरों की आलोचना
Dr.Rashmi Mishra
जब ऐसा लगे कि
जब ऐसा लगे कि
Nanki Patre
"गुजारिश"
Dr. Kishan tandon kranti
मैंने जिसे लिखा था बड़ा देखभाल के
मैंने जिसे लिखा था बड़ा देखभाल के
Shweta Soni
मै ठंठन गोपाल
मै ठंठन गोपाल
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
चन्द्रशेखर आज़ाद...
चन्द्रशेखर आज़ाद...
Kavita Chouhan
कृष्ण दामोदरं
कृष्ण दामोदरं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*श्री सुंदरलाल जी ( लघु महाकाव्य)*
*श्री सुंदरलाल जी ( लघु महाकाव्य)*
Ravi Prakash
मेरी सादगी को देखकर सोचता है जमाना
मेरी सादगी को देखकर सोचता है जमाना
कवि दीपक बवेजा
2349.पूर्णिका
2349.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
You are painter
You are painter
Vandana maurya
हम चाहते हैं कि सबसे संवाद हो ,सबको करीब से हम जान सकें !
हम चाहते हैं कि सबसे संवाद हो ,सबको करीब से हम जान सकें !
DrLakshman Jha Parimal
SUCCESS : MYTH & TRUTH
SUCCESS : MYTH & TRUTH
Aditya Prakash
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
The_dk_poetry
टेढ़ी ऊंगली
टेढ़ी ऊंगली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...