Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2016 · 1 min read

सुप्रभात

इतने बरस में हमने जाना
हार जीत बेमानी है
बस में अपने कुछ नहीं है
समय रेत या पानी है

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 265 Views
You may also like:
How long or is this "Forever?"
Manisha Manjari
श्राप महामानव दिए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्रांति के अग्रदूत
Shekhar Chandra Mitra
पैसा पैसा कैसा पैसा
विजय कुमार अग्रवाल
बहुत अच्छे लगते ( गीतिका )
Dr. Sunita Singh
हम क्या
Dr fauzia Naseem shad
💐भगवतः दानस्य प्रकारा:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो ये खेल
मानक लाल"मनु"
तू बोल तो जानूं
Harshvardhan "आवारा"
कविता
Sunita Gupta
पता नहीं तुम कौनसे जमाने की बात करते हो
Manoj Tanan
✍️यहाँ सब अदम है...
'अशांत' शेखर
वक्त
Shyam Sundar Subramanian
"घास वाला टिब्बा"
Dr Meenu Poonia
आज़ादी के 75 वर्ष ’नारे’
Author Dr. Neeru Mohan
सावन में एक नारी की अभिलाषा
Ram Krishan Rastogi
*नैनीताल में नव वर्ष (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चित्रगुप्त पूजन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बहाना क्यूँ बनाते हो (जवाब -1)
bhandari lokesh
मैंने रोक रखा है चांद
Kaur Surinder
■ कविता / मेरे नायक : अवधेश राम
*Author प्रणय प्रभात*
नफरतों का इश्क।
Taj Mohammad
शीत लहर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जमी हुई धूल
Johnny Ahmed 'क़ैस'
विभाजन की व्यथा
Anamika Singh
गीत
Kanchan Khanna
महर्षि बाल्मीकि
Ashutosh Singh
ऐसा करने से पहले
gurudeenverma198
दृढ़ संकल्पी
डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
बढ़ते जाना है
surenderpal vaidya
Loading...