Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
May 25, 2016 · 1 min read

सुप्रभात

इतने बरस में हमने जाना
हार जीत बेमानी है
बस में अपने कुछ नहीं है
समय रेत या पानी है

1 Like · 224 Views
You may also like:
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
गीत
शेख़ जाफ़र खान
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
पिता
विजय कुमार 'विजय'
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आस
लक्ष्मी सिंह
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
Loading...