Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Sep 2022 · 1 min read

# जय.….जय श्री राम…..

# जय…जय श्री राम …

जो चाय ,
सुड़क कर पीते …!

जो दारु ,
जाम पे जाम …!

छल्ले उड़ाते ,
कश लगाते
जो लेके ,
प्रभु का नाम …!

जो ना छोड़े
ये आदत …!

लोग
वो बद ,
बड़े बद्तर ,
होते हैं बदनाम …!

होती जिंदगी ,
उनकी तमाम …!

होता उसका ,
सब हराम …!

वो गए ,
काम से काम …!

गर चाहे तू तेरी ,
जिंदगी हो आसान …!

तू भज मन ,
गोविंद , राधे-राधे …!

रघुपति राघव राजाराम ,
पतित पावन सीताराम …!

सब प्रेम से बोलो
जय…जय श्री राम …!

चिन्ता नेताम ” मन ”
डोंगरगांव ( छत्तीसगढ़)

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 807 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फ़ितरत
फ़ितरत
Dr.Priya Soni Khare
पिता
पिता
Harendra Kumar
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
Gouri tiwari
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
ruby kumari
रमेशराज का हाइकु-शतक
रमेशराज का हाइकु-शतक
कवि रमेशराज
बारिश
बारिश
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
शादी के बाद भी अगर एक इंसान का अपने परिवार के प्रति अतिरेक ज
शादी के बाद भी अगर एक इंसान का अपने परिवार के प्रति अतिरेक ज
पूर्वार्थ
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
कहानी-
कहानी- "हाजरा का बुर्क़ा ढीला है"
Dr Tabassum Jahan
जिस मीडिया को जनता के लिए मोमबत्ती बनना चाहिए था, आज वह सत्त
जिस मीडिया को जनता के लिए मोमबत्ती बनना चाहिए था, आज वह सत्त
शेखर सिंह
मेरी सोच~
मेरी सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
मुझे छेड़ो ना इस तरह
मुझे छेड़ो ना इस तरह
Basant Bhagawan Roy
"शाम-सवेरे मंदिर जाना, दीप जला शीश झुकाना।
आर.एस. 'प्रीतम'
जन्म-जन्म का साथ.....
जन्म-जन्म का साथ.....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*दो बूढ़े माँ बाप (नौ दोहे)*
*दो बूढ़े माँ बाप (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
ऋण चुकाना है बलिदानों का
ऋण चुकाना है बलिदानों का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
One-sided love
One-sided love
Bidyadhar Mantry
"क्या देश आजाद है?"
Ekta chitrangini
धरती माँ ने भेज दी
धरती माँ ने भेज दी
Dr Manju Saini
सब को जीनी पड़ेगी ये जिन्दगी
सब को जीनी पड़ेगी ये जिन्दगी
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
दिल्ली चलें सब साथ
दिल्ली चलें सब साथ
नूरफातिमा खातून नूरी
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
डी. के. निवातिया
#दोषी_संरक्षक
#दोषी_संरक्षक
*प्रणय प्रभात*
शब्दों का महत्त्व
शब्दों का महत्त्व
SURYA PRAKASH SHARMA
प्यार
प्यार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"कोयल"
Dr. Kishan tandon kranti
राम - दीपक नीलपदम्
राम - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अगर मुझे तड़पाना,
अगर मुझे तड़पाना,
Dr. Man Mohan Krishna
जाति आज भी जिंदा है...
जाति आज भी जिंदा है...
आर एस आघात
#धोती (मैथिली हाइकु)
#धोती (मैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...