Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jan 2021 · 1 min read

सुन लो बच्चों

चौपाई छंद
सुन लो बच्चों ध्यान लगाकर,
पीलो अमिय ज्ञान का गागर ।

जल्दी उठना जल्दी सोना ,
केवल सपनों में मत खोना।

नित्य नियम से जीवन जीना,
रसना आदर्शों का पीना।

जीवन मूल्यों को अपनाना,
पथ पर आगे बढ़ते जाना।

अच्छे अच्छे मित्र बनाना,
प्रेम भाव से घुलमिल जाना ।

मात पिता गुरु आज्ञा मानो,
अपना भला इसी में जानो।

अपनी ताकत को पहचानो,
पूरा करना जो भी ठानो।

बनो साहसी वीर बहादुर,
सतत् कर्म करने को आतुर।

लक्ष्य बना कर उसको भेदो,
ऊंचा नील गगन को छेदो।

जीव-जन्तु को नहीं सताना,
सदा सादगी को अपनाना।

दीन दुखी की करना सेवा,
पाओगे तुम हर पल मेवा।

-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

1 Like · 1 Comment · 286 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
मेरी कलम
मेरी कलम
Dr.Priya Soni Khare
नया  साल  नई  उमंग
नया साल नई उमंग
राजेंद्र तिवारी
संस्कृति के रक्षक
संस्कृति के रक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
Rj Anand Prajapati
आगोश में रह कर भी पराया रहा
आगोश में रह कर भी पराया रहा
हरवंश हृदय
Love yourself
Love yourself
आकांक्षा राय
#डॉ अरूण कुमार शास्त्री
#डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बढ़ती तपीस
बढ़ती तपीस
शेखर सिंह
ऐसे दर्शन सदा मिले
ऐसे दर्शन सदा मिले
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है
हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है
Sonam Puneet Dubey
*मॉं की गोदी स्वर्ग है, देवलोक-उद्यान (कुंडलिया )*
*मॉं की गोदी स्वर्ग है, देवलोक-उद्यान (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
क्या खोया क्या पाया
क्या खोया क्या पाया
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Remembering that winter Night
Remembering that winter Night
Bidyadhar Mantry
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अभिव्यक्ति - मानवीय सम्बन्ध, सांस्कृतिक विविधता, और सामाजिक परिवर्तन का स्रोत
अभिव्यक्ति - मानवीय सम्बन्ध, सांस्कृतिक विविधता, और सामाजिक परिवर्तन का स्रोत" - भाग- 01 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
कवि दीपक बवेजा
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
कवि अनिल कुमार पँचोली
अपनी काविश से जो मंजिल को पाने लगते हैं वो खारज़ार ही गुलशन बनाने लगते हैं। ❤️ जिन्हे भी फिक्र नहीं है अवामी मसले की। शोर संसद में वही तो मचाने लगते हैं।
अपनी काविश से जो मंजिल को पाने लगते हैं वो खारज़ार ही गुलशन बनाने लगते हैं। ❤️ जिन्हे भी फिक्र नहीं है अवामी मसले की। शोर संसद में वही तो मचाने लगते हैं।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
क्षतिपूर्ति
क्षतिपूर्ति
Shweta Soni
"अंकों की भाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
सौ बार मरता है
सौ बार मरता है
sushil sarna
* जन्मभूमि का धाम *
* जन्मभूमि का धाम *
surenderpal vaidya
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
पूर्वार्थ
सारी जिंदगी कुछ लोगों
सारी जिंदगी कुछ लोगों
shabina. Naaz
हमको मिलते जवाब
हमको मिलते जवाब
Dr fauzia Naseem shad
आज के जमाने में
आज के जमाने में
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...