Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jan 2021 · 1 min read

सुन लो बच्चों

चौपाई छंद
सुन लो बच्चों ध्यान लगाकर,
पीलो अमिय ज्ञान का गागर ।

जल्दी उठना जल्दी सोना ,
केवल सपनों में मत खोना।

नित्य नियम से जीवन जीना,
रसना आदर्शों का पीना।

जीवन मूल्यों को अपनाना,
पथ पर आगे बढ़ते जाना।

अच्छे अच्छे मित्र बनाना,
प्रेम भाव से घुलमिल जाना ।

मात पिता गुरु आज्ञा मानो,
अपना भला इसी में जानो।

अपनी ताकत को पहचानो,
पूरा करना जो भी ठानो।

बनो साहसी वीर बहादुर,
सतत् कर्म करने को आतुर।

लक्ष्य बना कर उसको भेदो,
ऊंचा नील गगन को छेदो।

जीव-जन्तु को नहीं सताना,
सदा सादगी को अपनाना।

दीन दुखी की करना सेवा,
पाओगे तुम हर पल मेवा।

-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

1 Like · 1 Comment · 152 Views
You may also like:
तुमसे कहते रहे,भुला दो मुझको
Kaur Surinder
अनामिका के विचार
Anamika Singh
जोशीमठ
Dr Archana Gupta
अचार का स्वाद
Buddha Prakash
! ! बेटी की विदाई ! !
Surya Barman
ये पूजा ये गायन क्या है?
AJAY AMITABH SUMAN
जिस देश में शासक का चुनाव
gurudeenverma198
सोलह श्रृंगार
Shekhar Chandra Mitra
अज्ञानता
Shyam Sundar Subramanian
वजूद पे उठते सवालों का जवाब ढूंढती हूँ,
Manisha Manjari
शेर
Rajiv Vishal
फरिश्तों का ईमान डोल जाए।
Taj Mohammad
✍️ हर बदलते साल की तरह...!
'अशांत' शेखर
लाज-लेहाज
Anil Jha
रूको भला तब जाना
Varun Singh Gautam
" जाड्डडो आगयो"
Dr Meenu Poonia
1-साहित्यकार पं बृजेश कुमार नायक का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Writing Challenge- अंतरिक्ष (Space)
Sahityapedia
- में तरसता रहा पाने को अपनो का प्यार -
bharat gehlot
■ मौजूदा दौर में....
*प्रणय प्रभात*
अतिथि तुम कब जाओगे
Gouri tiwari
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
आपतो हो सुकून आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
#ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
एहसास
Er.Navaneet R Shandily
गीत- अमृत महोत्सव आजादी का...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जाति दलदल या कुछ ओर
विनोद सिल्ला
बाल कहानी- बाल विवाह
SHAMA PARVEEN
*पर्वतों का इस तरह आनंद आप उठाइए (हास्य हिंदी गजल/...
Ravi Prakash
Loading...