Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-159💐

सुनो मेरे अफ़साने तुम पढ़ोगे न कैसे,
पैवस्त जो हुआ हूँ तेरे दिल में ऐसे-वैसे।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
315 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यह जरूर एक क्रांति है... जो सभी आडंबरो को तोड़ता है
यह जरूर एक क्रांति है... जो सभी आडंबरो को तोड़ता है
Utkarsh Dubey “Kokil”
सृजन के जन्मदिन पर
सृजन के जन्मदिन पर
Satish Srijan
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
💐प्रेम कौतुक-489💐
💐प्रेम कौतुक-489💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
(21)
(21) "ऐ सहरा के कैक्टस ! *
Kishore Nigam
हम भी तो देखे
हम भी तो देखे
हिमांशु Kulshrestha
I hide my depression,
I hide my depression,
Vandana maurya
मानव तेरी जय
मानव तेरी जय
Sandeep Pande
हम रंगों से सजे है
हम रंगों से सजे है
'अशांत' शेखर
आपके स्वभाव की सहजता
आपके स्वभाव की सहजता
Dr fauzia Naseem shad
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Blac is dark
Blac is dark
Neeraj Agarwal
Khud ke khalish ko bharne ka
Khud ke khalish ko bharne ka
Sakshi Tripathi
अध्यापकों का स्थानांतरण (संस्मरण)
अध्यापकों का स्थानांतरण (संस्मरण)
Ravi Prakash
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ఓ యువత మేలుకో..
ఓ యువత మేలుకో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
ईश्वर नाम रख लेने से, तुम ईश्वर ना हो जाओगे,
ईश्वर नाम रख लेने से, तुम ईश्वर ना हो जाओगे,
Anand Kumar
पति पत्नि की नोक झोंक व प्यार (हास्य व्यंग)
पति पत्नि की नोक झोंक व प्यार (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
कब जुड़ता है टूट कर,
कब जुड़ता है टूट कर,
sushil sarna
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
Surya Barman
■ ज़िंदगी में गुस्ताखियां भी होती हैं अक़्सर।
■ ज़िंदगी में गुस्ताखियां भी होती हैं अक़्सर।
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ किताबें और
कुछ किताबें और
Shweta Soni
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
नशा
नशा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
23/37.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/37.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गुरुवर
गुरुवर
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
सिलसिले
सिलसिले
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...