Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-159💐

सुनो मेरे अफ़साने तुम पढ़ोगे न कैसे,
पैवस्त जो हुआ हूँ तेरे दिल में ऐसे-वैसे।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“ OUR NEW GENERATION IS OUR GUIDE”
“ OUR NEW GENERATION IS OUR GUIDE”
DrLakshman Jha Parimal
गांव की सैर
गांव की सैर
जगदीश लववंशी
दिनांक - २१/५/२०२३
दिनांक - २१/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जमाने से सुनते आये
जमाने से सुनते आये
ruby kumari
कमबख्त ये दिल जिसे अपना समझा,वो बेवफा निकला।
कमबख्त ये दिल जिसे अपना समझा,वो बेवफा निकला।
Sandeep Mishra
श्री राम के आदर्श
श्री राम के आदर्श
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
खोया हुआ वक़्त
खोया हुआ वक़्त
Sidhartha Mishra
चाय
चाय
Dr. Seema Varma
उसकी आंखों से छलकता प्यार
उसकी आंखों से छलकता प्यार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लहरे बहुत है दिल मे दबा कर रखा है , काश ! जाना होता है, समुन
लहरे बहुत है दिल मे दबा कर रखा है , काश ! जाना होता है, समुन
Rohit yadav
नानी का घर (बाल कविता)
नानी का घर (बाल कविता)
Ravi Prakash
दुआ पर लिखे अशआर
दुआ पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
फिर से अरमान कोई क़त्ल हुआ है मेरा
फिर से अरमान कोई क़त्ल हुआ है मेरा
Anis Shah
"दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
मुहब्बत के शहर में कोई शराब लाया, कोई शबाब लाया,
मुहब्बत के शहर में कोई शराब लाया, कोई शबाब लाया,
डी. के. निवातिया
बैठ अटारी ताकता, दूरी नभ की फाँद।
बैठ अटारी ताकता, दूरी नभ की फाँद।
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
काँच और पत्थर
काँच और पत्थर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2321.पूर्णिका
2321.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
खुद की तलाश में मन
खुद की तलाश में मन
Surinder blackpen
तिरंगा
तिरंगा
Satish Srijan
ना मानी हार
ना मानी हार
Dr. Meenakshi Sharma
💐अज्ञात के प्रति-60💐
💐अज्ञात के प्रति-60💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
'सवालात' ग़ज़ल
'सवालात' ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अभिनय चरित्रम्
अभिनय चरित्रम्
मनोज कर्ण
फिक्र (एक सवाल)
फिक्र (एक सवाल)
umesh mehra
पशु पक्षियों
पशु पक्षियों
Surya Barman
दुनिया बदल सकते थे जो
दुनिया बदल सकते थे जो
Shekhar Chandra Mitra
"दिल में कांटा सा इक गढ़ा होता।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...