Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2024 · 1 min read

सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए

सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
खिला ग़ुल चूमकर जैसे हवाओ में नशा छाए
हवाएँ ज़ुल्फ़ सहलाकर जगाती नींद से जैसे
मुहब्बत से मेरे दिल को कोई ऐसे तो सहलाए

आर. एस. ‘प्रीतम’

1 Like · 459 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
भाग्य पर अपने
भाग्य पर अपने
Dr fauzia Naseem shad
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
दोस्ती देने लगे जब भी फ़रेब..
दोस्ती देने लगे जब भी फ़रेब..
अश्क चिरैयाकोटी
ये राम कृष्ण की जमीं, ये बुद्ध का मेरा वतन।
ये राम कृष्ण की जमीं, ये बुद्ध का मेरा वतन।
सत्य कुमार प्रेमी
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
तीन स्थितियाँ [कथाकार-कवि उदयप्रकाश की एक कविता से प्रेरित] / MUSAFIR BAITHA
तीन स्थितियाँ [कथाकार-कवि उदयप्रकाश की एक कविता से प्रेरित] / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जिन्दगी में
जिन्दगी में
लक्ष्मी सिंह
कीमत दोनों की चुकानी पड़ती है चुपचाप सहने की भी
कीमत दोनों की चुकानी पड़ती है चुपचाप सहने की भी
Rekha khichi
पापा की बिटिया
पापा की बिटिया
Arti Bhadauria
प्यार मेरा बना सितारा है --
प्यार मेरा बना सितारा है --
Seema Garg
बेटियां
बेटियां
Dr Parveen Thakur
शहर की बस्तियों में घोर सन्नाटा होता है,
शहर की बस्तियों में घोर सन्नाटा होता है,
Abhishek Soni
एक सच और सोच
एक सच और सोच
Neeraj Agarwal
😢शर्मनाक😢
😢शर्मनाक😢
*Author प्रणय प्रभात*
आया तीजो का त्यौहार
आया तीजो का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
सबक
सबक
manjula chauhan
उम्र पैंतालीस
उम्र पैंतालीस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
यहा हर इंसान दो चहरे लिए होता है,
यहा हर इंसान दो चहरे लिए होता है,
Happy sunshine Soni
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पापा आपकी बहुत याद आती है
पापा आपकी बहुत याद आती है
Kuldeep mishra (KD)
2843.*पूर्णिका*
2843.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मधुर व्यवहार
मधुर व्यवहार
Paras Nath Jha
बदरा बरसे
बदरा बरसे
Dr. Kishan tandon kranti
वर्तमान समय में संस्कार और सभ्यता मर चुकी है
वर्तमान समय में संस्कार और सभ्यता मर चुकी है
प्रेमदास वसु सुरेखा
अंतरात्मा की आवाज
अंतरात्मा की आवाज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
What can you do
What can you do
VINOD CHAUHAN
तुम्हें अकेले चलना होगा
तुम्हें अकेले चलना होगा
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
1) आखिर क्यों ?
1) आखिर क्यों ?
पूनम झा 'प्रथमा'
*भगत सिंह हूँ फैन  सदा तेरी शराफत का*
*भगत सिंह हूँ फैन सदा तेरी शराफत का*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...