Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2022 · 1 min read

सुनहरी स्मृतियां

एक दिन सब खत्म हो जाएगा
ये नश्वर शरीर भी तुम्हें छोड़ जायेगा
रह जायेगा बस तुम्हारी यादों का सफर
जो अपनों को तेरा अहसास दिलाएगा

बीत रहे हैं जो पल
बन जायेंगी यही यादें एक दिन
होंगे जब भी अकेले कभी
साथ निभाएंगी ये स्मृतियां एक दिन

जितनी अच्छी होंगी स्मृतियां
देगी तुम्हें खुशियां उतनी ही ज़्यादा
कटेगा बुढ़ापा इनके ही सहारे तेरा
कुछ उम्मीद न लगा इससे तू ज़्यादा

है क्यों इतना व्यस्त अभी
अपनों के लिए थोड़ा तो समय निकाल
तेरे अपने भी हो जायेंगे व्यस्त जब
यही यादें आयेगी तेरे काम तब

मिले जब भी मौका तुम्हें
अपनों संग मिलकर खूब ठहाके लगा
है तेरे दिल में प्यार उनके लिए
कभी तो तू वो प्यार उनको दिखा

होंगी जितनी मधुर ये स्मृतियां
उतना सुकून उन्हें याद करके मिलेगा
कुछ पल के लिए भूल जायेगा दर्द
जब वो पुराना वक्त याद आएगा।

Language: Hindi
21 Likes · 3 Comments · 936 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
ऐसे थे पापा मेरे ।
ऐसे थे पापा मेरे ।
Kuldeep mishra (KD)
"" *सिमरन* ""
सुनीलानंद महंत
ग़ज़ल _ मंज़िलों की हर ख़बर हो ये ज़रूरी तो नहीं ।
ग़ज़ल _ मंज़िलों की हर ख़बर हो ये ज़रूरी तो नहीं ।
Neelofar Khan
সেই আপেল
সেই আপেল
Otteri Selvakumar
बचपन में थे सवा शेर
बचपन में थे सवा शेर
VINOD CHAUHAN
👌
👌
*प्रणय प्रभात*
स्मृतिशेष मुकेश मानस : टैलेंटेड मगर अंडररेटेड दलित लेखक / MUSAFIR BAITHA 
स्मृतिशेष मुकेश मानस : टैलेंटेड मगर अंडररेटेड दलित लेखक / MUSAFIR BAITHA 
Dr MusafiR BaithA
Lately, what weighs more to me is being understood. To be se
Lately, what weighs more to me is being understood. To be se
पूर्वार्थ
" अंधेरी रातें "
Yogendra Chaturwedi
जीवन दर्शन (नील पदम् के दोहे)
जीवन दर्शन (नील पदम् के दोहे)
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
दोहे- चार क़दम
दोहे- चार क़दम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दोनों की सादगी देख कर ऐसा नज़र आता है जैसे,
दोनों की सादगी देख कर ऐसा नज़र आता है जैसे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अपनी हिंदी
अपनी हिंदी
Dr.Priya Soni Khare
Dictatorship in guise of Democracy ?
Dictatorship in guise of Democracy ?
Shyam Sundar Subramanian
शीत की शब में .....
शीत की शब में .....
sushil sarna
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
शेखर सिंह
बिगड़ता यहां परिवार देखिए........
बिगड़ता यहां परिवार देखिए........
SATPAL CHAUHAN
बर्फ
बर्फ
Santosh kumar Miri
जिन्दगी में फैंसले और फ़ासले सोच समझ कर कीजिएगा !!
जिन्दगी में फैंसले और फ़ासले सोच समझ कर कीजिएगा !!
Lokesh Sharma
पिया बिन सावन की बात क्या करें
पिया बिन सावन की बात क्या करें
Devesh Bharadwaj
ज़िंदगी हम भी
ज़िंदगी हम भी
Dr fauzia Naseem shad
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
कवि दीपक बवेजा
23/75.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/75.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*
*"हरियाली तीज"*
Shashi kala vyas
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
श्रेष्ठ बंधन
श्रेष्ठ बंधन
Dr. Mulla Adam Ali
"संलाप"
Dr. Kishan tandon kranti
*शब्द*
*शब्द*
Sûrëkhâ
Love night
Love night
Bidyadhar Mantry
तुम्हारे जैसे थे तो हम भी प्यारे लगते थे
तुम्हारे जैसे थे तो हम भी प्यारे लगते थे
Keshav kishor Kumar
Loading...