Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

सुनसान कब्रिस्तान को आकर जगाया आपने

सुनसान कब्रिस्तान को आकर जगाया आपने
मेरी कब्र के सामने पर्दा उठाया आपने
कहती हो पर्दा उठ गया दीदार कर लूँ मैं
आवाज देकर अब मुझे क्यों बुलाया आपने

लो आ गया पर्दानशी नज़रें उठा के देख
आंसू बहाना छोड़ अब नजरे मिला के देख
तड़प उठी रुह हमारी तेरे गम के सामने
आंखों से मोती प्यार का जब गिराया आपने

चैन मिला है रुह को मेरी सच्च तेरे दीदार से
बैठी हो जबसे तुम सामने मेरी मजार के
तेरे दीदार के लिए थी कबसे रूह भटक रही
बेकरार रूह को करार दिलाया आपने

काश कि मैं लौट पाता यूँ इस कब्र से मेरी
प्यार से तुझको उठाता फिर कब्र से मेरी
गले लगाकर दूर करता दिल की उदासी मैं
पूछता मैरे लिए क्यूँ दिल जलाया आपने

क्या करूँ ना मैं ही रहा ना प्यार ही मेरा
अब तो करेगी बस रूह सुनो दीदार भी तेरा
शायद तेरे दीदार के काबिल नहीं था मैं
क्यों सूनी पड़ी कब्र पे प्यार जताया आपने

स्वरचित
V9द चौहान

2 Likes · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
"अश्क भरे नयना"
Ekta chitrangini
50….behr-e-hindi Mutqaarib musaddas mahzuuf
50….behr-e-hindi Mutqaarib musaddas mahzuuf
sushil yadav
राम वन गमन हो गया
राम वन गमन हो गया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
अंसार एटवी
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बात मेरे मन की
बात मेरे मन की
Sûrëkhâ
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
Johnny Ahmed 'क़ैस'
कहने को तो इस जहां में अपने सब हैं ,
कहने को तो इस जहां में अपने सब हैं ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
2351.पूर्णिका
2351.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
विजेता सूची- “सत्य की खोज” – काव्य प्रतियोगिता
विजेता सूची- “सत्य की खोज” – काव्य प्रतियोगिता
Sahityapedia
ਹਾਸਿਆਂ ਵਿਚ ਲੁਕੇ ਦਰਦ
ਹਾਸਿਆਂ ਵਿਚ ਲੁਕੇ ਦਰਦ
Surinder blackpen
किसी से प्यार, हमने भी किया था थोड़ा - थोड़ा
किसी से प्यार, हमने भी किया था थोड़ा - थोड़ा
The_dk_poetry
Shabdo ko adhro par rakh ke dekh
Shabdo ko adhro par rakh ke dekh
Sakshi Tripathi
बोला नदिया से उदधि, देखो मेरी शान (कुंडलिया)*
बोला नदिया से उदधि, देखो मेरी शान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हे राम !
हे राम !
Ghanshyam Poddar
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
कार्तिक नितिन शर्मा
'अहसास' आज कहते हैं
'अहसास' आज कहते हैं
Meera Thakur
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
Sahil Ahmad
सफल हुए
सफल हुए
Koमल कुmari
फलसफ़ा
फलसफ़ा
Atul "Krishn"
मेरे दिल के खूं से, तुमने मांग सजाई है
मेरे दिल के खूं से, तुमने मांग सजाई है
gurudeenverma198
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आ जाते हैं जब कभी, उमड़ घुमड़ घन श्याम।
आ जाते हैं जब कभी, उमड़ घुमड़ घन श्याम।
surenderpal vaidya
पुलवामा अटैक
पुलवामा अटैक
लक्ष्मी सिंह
#लघुकविता-
#लघुकविता-
*प्रणय प्रभात*
गम हमें होगा बहुत
गम हमें होगा बहुत
VINOD CHAUHAN
"छलनी"
Dr. Kishan tandon kranti
हम कितने आँसू पीते हैं।
हम कितने आँसू पीते हैं।
Anil Mishra Prahari
Loading...