Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

सुख दुख

सुख दुख
सुख दुख तो आते जाते हैं जीवन में…
फर्क पड़ता है तो बस इतना
कुछ दुख देते हैं दर्द कुछ पल का
और कुछ दुखों को पड़ता है जिंदगी भर भुगतना।
रोशनी है चारों ओर…
हजारों मुस्कानों की इस महफिल में
किसी का रोना सुनाई देता है।
दिल के सभी अरमां …
हाथों से रेत की तरह जाते हैं
दिन भर मेहनत करने वाला
रात को चैन की नींद सोता है
पर किसे खबर इस बात की
कि दिनभर हंसने वाला
रात की तन्हाई में कितनी बार रोता है।
स्वरचित कविता
सुरेखा राठी

1 Like · 33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
मैं भी अपनी नींद लुटाऊं
मैं भी अपनी नींद लुटाऊं
करन ''केसरा''
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
2450.पूर्णिका
2450.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चला मुरारी हीरो बनने ....
चला मुरारी हीरो बनने ....
Abasaheb Sarjerao Mhaske
भभक
भभक
Dr.Archannaa Mishraa
Life
Life
Neelam Sharma
*
*"देश की आत्मा है हिंदी"*
Shashi kala vyas
मातृशक्ति
मातृशक्ति
Sanjay ' शून्य'
ऐ जिंदगी
ऐ जिंदगी
अनिल "आदर्श"
सच तो तस्वीर,
सच तो तस्वीर,
Neeraj Agarwal
.........,
.........,
शेखर सिंह
शिक्षक
शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"Let us harness the power of unity, innovation, and compassi
Rahul Singh
*होता शिक्षक प्राथमिक, विद्यालय का श्रेष्ठ (कुंडलिया )*
*होता शिक्षक प्राथमिक, विद्यालय का श्रेष्ठ (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
Rj Anand Prajapati
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खुशबू चमन की।
खुशबू चमन की।
Taj Mohammad
आज का अभिमन्यु
आज का अभिमन्यु
विजय कुमार अग्रवाल
"नमक का खारापन"
Dr. Kishan tandon kranti
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
Satish Srijan
हे भगवान तुम इन औरतों को  ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
हे भगवान तुम इन औरतों को ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
Dr. Man Mohan Krishna
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
मैं तो ईमान की तरह मरा हूं कई दफा ,
मैं तो ईमान की तरह मरा हूं कई दफा ,
Manju sagar
भुलक्कड़ मामा
भुलक्कड़ मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन का जीवन
जीवन का जीवन
Dr fauzia Naseem shad
पढ़ाकू
पढ़ाकू
Dr. Mulla Adam Ali
हमको
हमको
Divya Mishra
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
Sakhawat Jisan
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कवि दीपक बवेजा
Loading...