Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

सुख – डगर

कंहा से आए दुख के सागर
क्यूं बरसे संकट की बदरा
क्या है, क्यों है क्लेश जीवन मे
कंहा उद्गम इस पीडा की गंगा

कुंठा , जलन ,अधीर मन
हावी हो जाए जब नित्य कर्म
जंजालो सा बने यह जीवन
कठिन बने यह सरल डगर

चाह सुस्वादु खान पान की
मंहगे वस्त्रो से तन ढकने के आन की
सुसज्जित घर निवास शान की
चांद छूने के प्रण तमाम की

कटु बोल सुनने से आहत
मृदु व्यवहार की पाले चाहत
बिना कहे मन समझे कोई
स्नेहासिक्त कर धरे सर पालक

स्वार्थ सदा रोके है सुख
ईर्ष्या रोक लगाए प्रेम
कुंठा हरे है मन आनंद
क्रोध स्वास्थ्य बली चढ़ाए

सरल हो जीवनयापन
सेवा भाव हो भर भर
वाणी संयम का नियंत्रण
सदा चलाए सुख की डगर

संदीप पांडे”शिष्य” अजमेर

Language: Hindi
4 Likes · 98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sandeep Pande
View all
You may also like:
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
कुंडलिनी छंद
कुंडलिनी छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
क्यों बनना गांधारी?
क्यों बनना गांधारी?
Dr. Kishan tandon kranti
दुनिया कितनी निराली इस जग की
दुनिया कितनी निराली इस जग की
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
ज्ञान के दाता तुम्हीं , तुमसे बुद्धि - विवेक ।
ज्ञान के दाता तुम्हीं , तुमसे बुद्धि - विवेक ।
Neelam Sharma
2784. *पूर्णिका*
2784. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज की नारी
आज की नारी
Shriyansh Gupta
जय हो कल्याणी माँ 🙏
जय हो कल्याणी माँ 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ଅହଙ୍କାର
ଅହଙ୍କାର
Bidyadhar Mantry
न चाहिए
न चाहिए
Divya Mishra
क्रिसमस से नये साल तक धूम
क्रिसमस से नये साल तक धूम
Neeraj Agarwal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बचपन
बचपन
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
बुंदेली दोहा-बखेड़ा
बुंदेली दोहा-बखेड़ा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"अपनी करतूत की होली जलाई जाती है।
*प्रणय प्रभात*
वक़्त है तू
वक़्त है तू
Dr fauzia Naseem shad
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
Mukta Rashmi
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
Ragini Kumari
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
पूर्वार्थ
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
मैं रचनाकार नहीं हूं
मैं रचनाकार नहीं हूं
Manjhii Masti
काश यह मन एक अबाबील होता
काश यह मन एक अबाबील होता
Atul "Krishn"
*देखो ऋतु आई वसंत*
*देखो ऋतु आई वसंत*
Dr. Priya Gupta
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
कहां खो गए
कहां खो गए
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
खुद के साथ ....खुशी से रहना......
खुद के साथ ....खुशी से रहना......
Dheerja Sharma
बेटियां
बेटियां
करन ''केसरा''
Loading...