Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

*सुंदर दिखना अगर चाहते, भजो राम का नाम (गीत)*

सुंदर दिखना अगर चाहते, भजो राम का नाम (गीत)
________________________
सुंदर दिखना अगर चाहते, भजो राम का नाम
1)
सॉंसें सुरभित हो जाती हैं, राम-नाम जो भजते
दिव्य तरंगों के प्रवाह से, भीतर-बाहर सजते
शांत सौम्य मुस्कुराते हैं वह, रखते मन निष्काम
2)
जिसके मन में राम बस गए, शत्रु-रहित हो जाता
मानव क्या पशु-पक्षी तक भी, उसका मित्र कहाता
प्रेम-भाव में डूबी उसकी, सुबह डूबती शाम
3)
भजने वाला राम-नाम को, परहित जीवन जीता
सदा बॉंटता अमृत राम का, गरल हर्ष से पीता
संतोषी की कहलाती है, देह अयोध्या धाम
सुंदर दिखना अगर चाहते, भजो राम का नाम
————————————–
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
इतनी मिलती है तेरी सूरत से सूरत मेरी ‌
इतनी मिलती है तेरी सूरत से सूरत मेरी ‌
Phool gufran
६४बां बसंत
६४बां बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
manjula chauhan
******गणेश-चतुर्थी*******
******गणेश-चतुर्थी*******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
देखिए मायका चाहे अमीर हो या गरीब
देखिए मायका चाहे अमीर हो या गरीब
शेखर सिंह
"तुम्हारे शिकवों का अंत चाहता हूँ
गुमनाम 'बाबा'
छुपा सच
छुपा सच
Mahender Singh
बदल चुका क्या समय का लय?
बदल चुका क्या समय का लय?
Buddha Prakash
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
The_dk_poetry
चॉकलेट
चॉकलेट
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
आनंद प्रवीण
आपके आसपास
आपके आसपास
Dr.Rashmi Mishra
कदम भले थक जाएं,
कदम भले थक जाएं,
Sunil Maheshwari
पिता
पिता
Shashi Mahajan
"चाँद-तारे"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी को उदास पाकर
किसी को उदास पाकर
Shekhar Chandra Mitra
पृथ्वी दिवस
पृथ्वी दिवस
Kumud Srivastava
मैं रूठ जाता हूँ खुद से, उससे, सबसे
मैं रूठ जाता हूँ खुद से, उससे, सबसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जीवन के हर युद्ध को,
जीवन के हर युद्ध को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फागुन की अंगड़ाई
फागुन की अंगड़ाई
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
दुम
दुम
Rajesh
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
कुछ
कुछ
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
ना कोई हिन्दू गलत है,
ना कोई हिन्दू गलत है,
SPK Sachin Lodhi
प्रेम एकता भाईचारा, अपने लक्ष्य महान हैँ (मुक्तक)
प्रेम एकता भाईचारा, अपने लक्ष्य महान हैँ (मुक्तक)
Ravi Prakash
#सनातन_सत्य
#सनातन_सत्य
*प्रणय प्रभात*
क्या वैसी हो सच में तुम
क्या वैसी हो सच में तुम
gurudeenverma198
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
Harminder Kaur
उलझी हुई है जुल्फ
उलझी हुई है जुल्फ
SHAMA PARVEEN
2446.पूर्णिका
2446.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...